कोविड के एक्टिव मामले लाखों में, चिंता बढ़ी

डिस्चार्ज रेट में भी गिरावट
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस के एक्टिव मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ती नजर आ रही है। इसके साथ ही साथ कोरोना वायरस के मरीजों के डिस्चार्ज रेट में भी लगातार कमी दर्ज हो रही है। कोरोना वायरस के मरीजों का डिस्चार्ज रेट पहले जहां 90% से अधिक दर्ज किया जा रहा था, वह अब 85% से 84% पर आ गया है। हाल के दिनों में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में भी लगातार वृद्धि हो रही है। ऐसे में डिस्चार्ज रेट में कमी का एक बड़ा कारण यह भी माना जा रहा है। यही वजह है कि हाल ही में एक एक्सपर्ट कमेटी का गठन भी स्वास्थ्य विभाग की ओर से किया गया है। इसका उद्देश्य है कि अस्पतालों में चिकित्सा व्यवस्था को और सुदृढ़ किया जाए।
नहीं सुनी डॉक्टर संगठनों की बातें, अब सब असहाय
एसोसिएशन ऑफ हेल्थ सर्विस डॉक्टर्स (एएचएसडी), वेस्ट बंगाल के महासचिव डॉ.मानस गुमटा ने कहा कि स्थिति की भयावहता को देखते हुए ऐसा नजर आ रहा है कि कहीं सरकार को फिर से लॉकडाउन का निर्णय न लेना पड़े। अब सब असहाय से हैं। हमारी बातें सरकारों ने नहीं सुनीं।
मई के तीसरे व चौथे सप्ताह में ‌स्थिति हो सकती है भयंकर
डॉ.मानस गुमटा ने कहा कि अब स्थिति ऐसी है कि एक्टिव मामले बढ़ ही रहे हैं। हमें काफी धैर्य से काम करना होगा। वर्तमान परिस्थिति में ही हमारे पास ऑक्सीजन, दवा से लेकर बेड का संकट है। स्वास्थ्यकर्मी व डॉक्टर फ्रंटलाइनर के तौर पर अस्पतालों में मरीजों को ठीक करने के लिए चुनौती से जूझ रहे हैं। मई के तीसरे व चौथे सप्ताह में स्थिति काफी भयावह हो सकती है, ऐसी संभावना है। ऐसे में लोगों को काफी जागरूक रहना होगा।
कोलकाता में ही 26 हजार से अधिक एक्टिव मामले
केवल कोलकाता में ही 10 मई की तिथि को एक्टिव मामले 26,258 थे। वहीं उत्तर 24 परगना जिले में 24,275 एक्टिव मामले दर्ज किए गए। ऐसे में इससे स्पष्ट है कि महानगर की‌ स्थिति काफी भयावह है।
तिथि-डिस्चार्ज रेट-एक्टिव मामले
15 अप्रैल-92.55%-36,981
30 अप्रैल-84.91%-1,13,624
8 मई-85.89%-1,25,164
9 मई-86.07%-1,26,027
10 मई-86.26%-1,26,663

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेट कंट्रोल के साथ आपके मन को शांत रखती हैं ये पांच छोटी-छोटी बातें

कोलकाताः मन अशांत रहने का असर हमारे खाने-पीने की आदतों पर भी पड़ता है। मौजूदा समय में जिस तरह दुनिया अस्त-व्यस्तता से गुजर रही है, उसकी आगे पढ़ें »

बच्चों व महिलाओं के लिए 10 हजार बेड तैयार कर रहा स्वास्थ्य विभाग

बच्चों के लिए स्पेशल कोविड बेड हर अस्पताल में थर्ड वेव के मद्देनजर तैयारियां जोरों पर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना वायरस महामारी के सेकंड वेव ने स्वास्थ्य आगे पढ़ें »

ऊपर