कोरोना से मरने वालों का भी विधि-विधान से होगा संस्कार

कोलकाता: कोरोना से मरने वालों का अंतिम संस्कार बेदिली और बेदर्दी से किए जाने का आरोप लगाते हुए विनीत रुइया ने हाई कोर्ट में एक पीआईएल दायर की थी। लंबी सुनवायी के बाद चीफ जस्टिस टी बी राधाकृष्णन और जस्टिस अरिजीत बनर्जी के डिविजन बेंच ने अपने फैसले में कहा है कि मौत कोरोना से हुई हो या स्वाभाविक, शव को सम्मान पाने का बुनियादी अधिकार है। यह एक आस्था है कि अगर मृतक का अंतिम संस्कार रीति रिवाज के अनुसार नहीं किया जाए तो उसकी आत्मा को शांति नहीं मिलती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक को संसद की मंजूरी, प्याज एवं आलू सूची से होंगे बाहर

नयी दिल्ली : संसद ने अनाज, तिलहनों, खाद्य तेलों, प्याज एवं आलू को आवश्यक वस्तुओं की सूची से बाहर करने के प्रावधान वाले एक विधेयक आगे पढ़ें »

कम्प्यूटर से आंखों का काम होता तमाम

इन दिनों टी.वी., कम्प्यूटर एवं लैपटाॅप का अधिकाधिक उपयोग हो रहा है। इनके उपयोगकर्ता लंबे समय तक इससे चिपके रहते हैं। इसके अधिकाधिक उपयोग से आगे पढ़ें »

ऊपर