बंगाल में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट घटा, टीकाकरण में नम्बर 1 – ममता

33 % से घटकर 18 – 19 % पर आया
15 दिनों की पाबंदी में और सुधार की संभावना
1.40 करोड़ लोगों का हुआ टीकाकरण
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : बंगाल में पिछले कई दिनों से राज्य में लॉकडाउन जैसी सख्ती जारी है। 15 जून तक सरकार ने पाबंदियां बढ़ा दी हैं। इसी बीच बंगाल के लिए अच्छी खबर है। यहां कोरोना के पॉजिटिविटी रेट में कमी आयी है। वहीं मृत्यु दर में भी काफी कमी आयी है। शनिवार को सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि राज्य में कोरोना पॉ​जिटिविटी रेट पिछले कई दिनों में 33 % से 18 – 19 % घटकर का अा गया है। इसके लिए राज्य की जनता को धन्यवाद, क्योंकि लोगों की सहयोगियता के बिना यह संभव नहीं होता। मुझे लगता है कि और 15 दिन इसी तरह पाबंदियों को लोग मानते हैं तो कोरोना के मामले में और कमी आयेगी। ममता बनर्जी ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में मृत्यु दर 0.56 है जो कि पहले की तुलना में काफी कम है।
केंद्र से 3 करोड़ टीका की मांग, टीकाकरण में बंगाल नम्बर 1
सीएम ने कहा कि अभी तक राज्य में 1 करोड़ 40 लाख लोगों को टीका दिया गया है। हमलोग टीकाकरण में गरीब तथा जो भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में काम में व्यस्त होते है, उन्हें भी शामिल कर रहे हैं। टोटो वाला, रिक्शावाला, बस ड्राइवर, कंडक्टर, सब्जी विक्रेता, मछली विक्रेता, डॉक्टर्स, नर्स, पुलिस कर्मी को प्राथमिकता के साथ वैक्सीनेशन किया जा रहा है। सीएम ने कहा कि अभी तक सभी पेशा के लोगों को मिलाकर 1.40 कराेड़ लोगों का टीकाकरण किया गया है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में और टीककारण की व्यवस्था की जायेगी। केंद्र से 3 करोड़ टीका की मांगी की गयी है। हालांकि अभी तक जितना टीका मिला है उसमें हमलोग वैक्सीनेशन के मामलों में नम्बर 1 पर है। हो सकता है कि छोटा राज्य आंध्र प्रदेश दिखायेगा नम्बर वन, लेकिन बंगाल की जनसंख्या उससे डबल है। इस तुलना में बंगाल टीकाकरण में नंबर 1 है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगालः दो वर्षों से सरकारी मदद की आस में टकटकी लगाये हैं दिव्यांग दंपति

पेड़ गिरने से इस दंपति का घर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था नागराकाटा : पेड़ गिरने से दो वर्ष पूर्व क्षतिग्रस्त घर के मालिक को आगे पढ़ें »

अगर आप भी है अपने बढ़ते वजन से परेशान तो आज से ही खाना शुरु करें ये चीज

कोलकाताः भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के लगभग हर देश में बढ़ते वजन को लेकर लोग परेशान है। ऐसे में वजन कम करने के लिए आगे पढ़ें »

ऊपर