कोरोना : यूपी-बिहार के कामकाजी लोग अब एक मिनट भी नहीं रहना चाहते यहां

वोट से ज्यादा जरूरी है जिंदगी
कोलकाता : राज्य में विधानसभा के चुनाव अब अंतिम पड़ाव की ओर बढ़ रहा हैं। इसी के साथ कोरोना भी अपनी रफ्तार तेज करता जा रहा है। खास कर ब्पाड़ाबाजरा में इसका प्रभाव काफी तेजी से फैल रहा है। न तो दवा मिल रही है न अस्पतालों में बेड। तबियत खराब हो गयी तो पूछने वाला भी कोई नहीं मिलेगा। अधिसंख्य लोगों के मन में डर है कि देर सबेर लॉकडाउन तो लगना ही है, फिर क्या होगा, कैसे जायेंगे घर, क्या अब अपने परिजनों से मिलना सपना हो जायेगा आदि कई खयालात मन में आ रहे हैं। इसी तरह के तमाम सवालों को खुद में समेटे हुए अपनी सुरक्षा के लिए यूपी बिहार के रहने वाले बड़ाबाजार के बड़ी संख्या में लोग अपने गांव की तरफ कूच कर रहे हैं। कई हैं जो अपने देश चले गए हैं तो कुछ तैयारी में है कि अगले एक-दो दिनों में बोरिया-बिस्तर लेकर ट्रेन पकड़ लेंगे। पता नहीं कब ट्रेन पर भी ब्रेक लग जाये, क्योंकि लोग पिछले साल को अभी तक भूले नहीं हैं।
वोट से ज्यादा जरूरी है जिंदगी
बड़ाबाजार में चाय की दुकान चलाने वाले रामाशीष ने बताया कि वह मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं जो सालों से यहां अपनी चाय की दुकान चलाते हैं। इस वक्त उन्हें भी कोरोना का डर सता रहा है क्योंकि उनकी दुकान में रोजाना कई लोग आते-जाते हैं इसलिए घर वालों की चिंता को देखते हुए वह भी अब बिहार निकलने वाले हैं। इसी तरह बाकी लोग भी हैं जो गांव की तरफ इसलिए जाना चाहते हैं ताकि उनका घर परिवार बचा रहे इनके लिए इस वक्त मतदान से ज्यादा जरूरी खुद का परिवार है। महात्मा गांधी रोड पर फुचका बेचने वाला छोटू अपने गांव निकल गया उसने कहा कि यहां रहना ठीक नहीं इसलिए परिवार के पास जा रहा हूं। रामप्रसाद बड़ाबाजार में डाला लगाते हैं, उनका पूरा परिवार बिहार में रहता है वह भी एक-दो दिन में गांव निकलने वाले हैं। उनका कहना है कि सब कुछ बन्द हो उससे पहले गांव पहुंच जाना समझदारी होगी। चुनाव तो आते-जाते रहेंगे जिंदगी नहीं मिलेगी दोबारा। दिनेश प्रसाद अपने परिवार के साथ राजा कटरा में रहते हैं उन्होंने कहा कि चुनाव के चक्कर में परिवार की जान जोखिम में नहीं डालना है इसलिए हम इसी हफ्ते गांव निकल रहे हैं। कुल मिलाकर स्थिति ऐसी है जहां लोगों में चुनाव की आपाधापी से ज्यादा जान बचाने की जद्दोजहद ज्यादा दिख रही है, जिसके लिए वे अपने घर को निकल रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लॉकडाउन नहीं होने के बावजूद नियम उतने ही कड़े होंगे : ममता

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकना है लेकिन लॉकडाउन इसका समाधान नहीं है। इसलिए राज्य में लॉकडाउन नहीं लगेगा लेकिन नियम लॉकडाउन आगे पढ़ें »

केजरीवाल बोले- तीसरी लहर में 30 हजार केस भी आए तो हम तैयार हैं

नई दिल्ली : देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने कोहराम मचा रखा है l दूसरी लहर के बीच कयास लगाए जा रहे हैं आगे पढ़ें »

ऊपर