कोरोना ने छीन ली परिवार के मुखिया की जिंदगी

फांकों में दिन काटने पड़ रहे हैं मां-बेटे को
हुगली : महामारी कोरोना ने देश और दुनिया में तबाही मचा रखी है। लाखों हंसते-खेलते घरों को इस वायरस ने वीरान कर दिया है। ऐसी ही एक दुखद घटना हुगली जिले के भद्रेश्वर थाना इलाके के नारकेलबागान कॉलोनी में रहने वाले राय परिवार के साथ भी घटी है। कुछ महीनों पहले इसी इलाके के रहने वाले तरुण राय हठात कोरोना पॉजिटिव पाए गए। अस्पताल में जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ते हुए भद्रेश्वर के रहने वाले तरुण रॉय ने दम तोड़ दिया। तरुण राय भद्रेश्वर नगरपालिका के एक साधारण कर्मचारी थे और वे अपने परिवार के इकलौते कमाऊ सदस्य थे। महामारी कोरोना ने राय परिवार के इकलौते कमाऊ सदस्य की जिंदगी छीनकर आज उस परिवार को बीच चौराहे पर लाकर खड़ा कर दिया है । मृतक अरुण रॉय की पत्नी शिवानी राय ने कहा कि पति की आकस्मिक मौत हो जाने के बाद उनके परिवार में उनके बेरोजगार बेटे के अलावा कोई नहीं है। किसी तरह पेंशन स्वरूप कुछ पैसा उनके परिवार को मिलता है जिससे काफी जोड़-तोड़ कर उनकी गृहस्थी चल पाती है। अपने परिवार के वरिष्ठ सदस्य के खोने का गम वह आज भी भुला नहीं पा रही हैं। वे ईश्वर से किसी तरह उनके बेरोजगार बेटे को एक छोटी-मोटी नौकरी मिल जाने की प्रार्थना करती हैं। मृतक के बेटे तनय ने बताया कि महामारी कोरोना ने उनके पिता को एकाएक उनसे छीन लिया। उन्होंने भगवान से विनती करते हुए कहा कि जल्द से जल्द महामारी कोरोना देश और दुनिया से दूर चला जाये। उनके परिवार जैसे किसी और परिवार की हस्ती खेलती गृहस्थी दुबारा से ना बिखरे। यहां तक कि उन्होंने अपने परिवार के लिए आर्थिक सहायता की भी सरकार और अन्य स्वयंसेवी संस्थाओं से गुहार लगाई है लेकिन अभी तक ना तो कोई नौकरी मिली है ना कोई आर्थिक सहायता। बेरोजगारी और आर्थिक तंगी की मार झेल रहा परिवार अपने परिजन को खोने का गम आज भी नहीं भुला पा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पैरेंट्स ने नहीं दिलाया कुत्ता तो बेटे ने कर ली…

विशाखापट्टनम : एक नाबालिग लड़के ने सिर्फ इसलिए खुदकुशी कर ली कि उसे माता-पिता ने घर में पालने के लिए कुत्ता लाने से मना कर आगे पढ़ें »

5000 हेल्थ अस्टिटेंट को दी जाएगी मरीजों की देखभाल की ट्रेनिंग : केजरीवाल

नई दिल्ली : राज्यों ने जानलेवा कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है। इसी क्रम में दिल्ली सरकार भी आगे पढ़ें »

ऊपर