कोरोना के कारण साइंस सिटी और विक्टोरिया हुए बंदण्‍

कोलकाता के सभी ऐतिहासिक स्थल फिर बंद
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोरोना के मामले अचानक बढ़ने के कारण कोलकाता के साइंस सिटी समेत ऐतिहासिक स्थलों को बंद कर दिया गया है। साइंस सिटी और विक्टोरिया मेमोरियल को आगामी 15 मई तक के लिए बंद किया गया है। नेशनल काउंसिल ऑफ साइंस म्यूजियम (एनसीएसएम) की ओर से एक बयान में कहा गया कि केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय के निर्देशों को मानते हुए ये निर्णय लिया गया है। एनसीएसएम के प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा, ‘देश में मौजूदा कोविड की स्थितियों को देखते हुए कोलकाता के साइंस सिटी को 15 मई तक के लिए बंद किया गया है।’ यहां उल्लेखनीय है कि गत वर्ष 16 मार्च से बंद रहने के बाद साइंस सिटी को 10 नवम्बर 2020 को खोला गया था। एनसीएसएम के अधीन आने वाला और सबसे पुराने म्यूजियमों में एक बिड़ला इण्डस्ट्रियल एण्ड टेक्नोलॉजिकल म्यूजियम (बीआईटीएम) भी 15 मई तक बंद रहेगा। आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) या एएसआई के अधीन रहने वाले शहर के कई दर्शनीय स्थान बंद कर दिये गये हैं। इनमें विक्टोरिया मेमोरियल, इंडियन म्यूजियम, बिड़ला प्लेनेटोरियम, साइंस सिटी जैसे दर्शनीय स्थान शामिल हैं। इसके अलावा देश में एएसआई के अधीन 3693 शोध एवं 50 म्यूजियम हैं जिनमें ताजमहल, पुरी का जगन्नाथ मंदिर, सोमनाथ मंदिर समेत देश के कई दर्शनीय स्थान भी शामिल हैं जो अब बंद रहेंगे। केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्रालय की ओर से बयान में कहा गया, ‘कोरोना परिस्थिति पर नियंत्रण के लिए केंद्रीय संस्था एएसआई के अधीन रहने वाले सभी स्मारक और म्यूजियम तत्काल बंद किये जाएंगे। आगामी 15 मई के बाद अगली विज्ञप्ति जारी होने तक ये सभी स्थान आम लोगों के लिए बंद रहेंगे।
इधर, विक्टोरिया मेमोरियल के क्यूरेटर जयंत सेनगुप्ता ने बताया कि जबसे विक्टोरिया आम लोगों के लिए पुनः खोला गया था, उस समय से ही सामान्य वर्षों की तुलना में भीड़ कम हो रही थी। 50-60% लोगों की भीड़ विक्टोरिया में हो रही थी। हालांकि अब 15 मई तक विक्टोरिया बंद रहेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पुलिस कर्मी बनकर लोगों का अपहरण कर लूटते थे रुपये

स्कॉर्पियो कार के जरिए करते थे अपहरण गिरोह के तीन सदस्य शोभाबाजार इलाके से गिरफ्तार सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : खुद को पुलिस कर्मी बताकर लोगों का अपहरण कर आगे पढ़ें »

सुनसान सड़कें, वीरान मार्केर्ट्स और…

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पिछले साल की यादें एक बार फिर से ताजा होती जा रही है। घरों में रहने के लिए लोग मजबूर हैं। सड़कें आगे पढ़ें »

ऊपर