कोरोना के मामले हुए कम, तो ब्लैक फंगस नहीं छोड़ रहा पीछा

कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस की रफ्तार काफी कम हुई है। हालांकि इस बीच म्यूकोरमायकोसिस यानी ब्लैक फंगस के मामले बढ़ने जारी हैं। भले ही यह मामले काफी कम हैं, लेकिन रोजाना ही ऐसे मामले राज्य के अलग-अलग हिस्सों में दर्ज हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक अब तक ब्लैक फंगस के कुल मामलों की संख्या 63 हो गई है। अब तक कुल संदिग्ध ब्लैफ फंगस के मामले 147 हो चुके हैं। कई मरीजों को ठीक करके घर भी भेजा गया है।
रिजनल इंस्टिट्यूट ऑफ ऑप्थोलमलॉजी (आरआईओ), कोलकाता के निदेशक प्रो.असीम कुमार घोष ने कहा कि राज्य में म्यूकोरमायकोसिस के मामलों में वृद्धि हो रही है। सभी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल इस पर अलर्ट हैं। इसके लिए विशेष टीम भी काम कर रही है। साथ ही इलाज व बचाव को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए जा रहे हैं।
शुरुआती लक्षण में पहुंचें डॉक्टर के पास
चेहरे पर दर्द होना, सूजन या सुन्न होना, एक दम से ऊपरी जबड़े के दांतों का हिलना, चबाने पर दर्द होना, तालू में छेद होना, नाक से काला म्यूकस व खून आना, नाक बंद होना, आंख में दर्द या आंख फूलकर बाहर आ जाना, चीजों का दो-दो दिखाई देना या दिखना बंद हो जाना आदि ब्लैक फंगस के लक्षण हैं। ऐसे में समय पर डॉक्टरों की सलाह जरूरी है।
इस पर नजर
कुल ब्लैक फंगस के मामले-63
संदिग्ध ब्लैक फंगस के मामले-147
अब तक मौत ब्लैक फंगस से-16
अब तक संदिग्ध ब्लैक फंगस से मौत-33

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बड़ी खबरः राज्य में कोविड के बीच बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस

एक्सपर्ट ने जागरूक रहने की दी सलाह सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः कोविड काल के बीच अचानक बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस के मामले सामने आए हैं। आगे पढ़ें »

ऊपर