एक दिन में 1 हजार पर पहुंचा कोरोना का मामला

कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस के एक दिन में 1,028 नए मामले दर्ज किए गए। अब तक कोरोना के कुल मामलों की संख्या राज्य में 5,48,471 लाख हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से सोमवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक पिछले 24 घण्टे में 1,614 लोगों को डिस्चार्ज किया गया। अब तक कुल 5,25,685 लाख लोग कोरोना वायरस से ठीक हो चुके हैं। एक दिन में कोरोना वायरस से 27 लोगों की मौत हो गई। राज्य में कोरोना वायरस से मृतकों की संख्या अब 9,625 पहुंच चुकी है। कोरोना वायरस के मरीजों का डिस्चार्ज रेट 95.85% पहुंच चुका है। कोरोना वायरस के सक्रिय मामलों की संख्या राज्य में 13,161 हो चुकी है। एक दिन में 28,095 लोगों का टेस्ट राज्य में किया गया। कुल टेस्टिंग की संख्या अब 69,93,821 लाख हो चुकी है। कोलकाता में एक दिन में 200 व उत्तर 24 परगना जिले में एक दिन में 268 नए मामले दर्ज किए गए।

बंगाल में कोरोना के दो जीन को अनुसंधानकर्ताओं ने किया चिह्नित

राज्य में कोरोना वायरस के दो जीन को अनुसंधानकर्ताओं ने चिह्नित किया है। इसे काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। बेलियाघाटा आईडी हॉस्पिटल के डॉक्टरों व इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ केमिकल बॉयोलॉजी (आईआईसीबी) के अनुसंधानकर्ताओं ने इस मुद्दे को लेकर हाथ मिलाया था। दरअसल बेलियाघाटा आईडी हॉस्पिटल में अनेकों प्रकार के मरीज आ रहे हैं। इसमें कई प्रकार के लक्षण व बीमारियां नजर आ रही थीं। ऐसे में आईआईसीबी के साथ मिलकर एक अनुसंधान किया गया। इसके लिए मॉलिक्यूलर टेस्ट करके जेनोमिक स्टडी की गई। इसके बाद ही यह पाया गया। अस्पताल सूत्रों की मानें तो एक नया जीन भी मिला है, हालांकि इस पर विस्तृत खुलासा नहीं हो सका है। जीन के पता चलने से कोरोना वायरस के इलाज करने में और मदद मिल सकेगी। दरअसल कोरोना वायरस के मरीजों के अलग-अलग अंगों पर असर पड़ रहा था। ऐसे में देखा गया कि एक का असर मरीज के फेफड़े पर अधिक व एक के अन्य अंग पर असर पड़ रहा था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अशुभ नहीं है आंखों का फड़कना, जानें-इसकी असली वजह

कोलकाता : आंखों का फड़कने को अक्सर अंधविश्वास से जोड़ा जाता है। ज्यादातर लोग इसे अशुभ मानते हैं लेकिन क्या वास्तव में ऐसा होता है? आगे पढ़ें »

अगर करना भगवान गणेश को प्रसन्न तो करें ये उपाय, दूर होंगे सारे विघ्न

कोलकाता : भगवान गणेश की पूजा बुधवार की दिन की जाती है। ऐसी मान्यता है कि विघ्नहर्ता को प्रसन्न करने के लिए विधिवत और सच्चे आगे पढ़ें »

ऊपर