बुखार से बदतर हो रहे बच्चों के हालात, कोविड की तरह लाचार हेल्थ सिस्टम

अज्ञात ज्वर का आतंक बढ़ा, मालदह में 3 मरेअस्पतालों में नवजातों के बेड हो रहे फुल, कइयोमे मिला इन्फ्लूएंजा बी वायरस
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोरोना वायरस के बीच नया आतंक उभरकर सामने आ रहा है। बुखार से बदतर हो रहे बच्चों के हालात, कोविड की तरह लाचार हेल्थ सिस्टम के कारण आैर समस्याएं बढ़ रही है। राज्य में बच्चों में अज्ञात बुखार के मामलों की संख्या बढ़ती जा रही है। कई जगहों से मौत की भी खबर है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने इससे इनकार किया है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की मानें तो मालदह में 3 बच्चों की मौत अज्ञात ज्वर के कारण हुई है। इसके अलावा सैकड़ों बच्चे यहां पर भर्ती है। जलपाईगुड़ी और मैनागुड़ी के बाद इस बार मालदह में 3 बच्चों की मौत हो गई। वहीं कम से कम 15 लोग खतरे में हैं।
मालदह में 100 से अधिक बच्चे भर्ती – सूत्रों से पता चला है कि सौ से अधिक बच्चों को बुखार के साथ मालदह मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें से 15 की हालत नाजुक है। पीड़ितों में गुरुवार की सुबह तीन बच्चे भी शामिल हैं। पता चला है कि वे कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे।
जलपाईगुड़ी में विशेष टीम गठित – वहीं, जलपाईगुड़ी में भी लगभग यही स्थिति है। पिछले कुछ दिनों में जिला स्वास्थ्य विभाग ने जलपाईगुड़ी में सैकड़ों बच्चों के लिए इन्फ्लूएंजा को जिम्मेदार ठहराया है। उत्तर बंगाल के जन स्वास्थ्य विभाग के ओएसडी डॉ.सुशांत रॉय ने कहा कि जलपाईगुड़ी से स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन में 10 बच्चों के नमूने भेजे गए थे। इनमें से 3 के शरीर में आरएस वायरस और 3 और बच्चों के शरीर में इन्फ्लूएंजा बी वायरस के साक्ष्य मिले हैं। स्थिति से निपटने के लिए मेडिकल टीम का गठन किया गया है। जलपाईगुड़ी जिला अस्पताल के अधीक्षक के नेतृत्व में मेडिकल टीम में दो बाल रोग विशेषज्ञ, एक रोग विशेषज्ञ और दो अन्य डॉक्टर शामिल हैं।
उत्तर बंगाल के साथ ही दक्षिण बंगाल में भी अज्ञात ज्वर का कहर : अज्ञात बुखार का प्रकोप उत्तर बंगाल के साथ-साथ दक्षिण बंगाल में भी देखा जा रहा है। दुर्गापुर और मुर्शिदाबाद के बाद पुरुलिया में अज्ञात बुखार का प्रकोप सामने आया है। महतो राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में 200 से अधिक बच्चों को भर्ती कराया गया है। तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए पुरुलिया जिला प्रशासन के निर्णय के अनुसार दो मंजिलों पर अलग-अलग बाल चिकित्सा वार्ड से उपचार किया जा रहा है।जैसे-जैसे अज्ञात बुखार से पीड़ित बच्चों की संख्या बढ़ती जा रही है, अलग-अलग बाल चिकित्सा भवनों की चारों मंजिलों का उपयोग किया जा रहा है।
कहां कितने भर्ती
उत्तर दिनाजपुर-30
पुरुलिया-230
जलपाईगुड़ी-105
मालबाजार-100
मालदह-60
रायगंज-19
अलीपुरद्वार-86

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अब महिलाओं में बढ़ने लगा ‘Period Underwear’ का क्रेज, जानें क्या…

कोलकोताः महिलाओं के उन मुश्किल दिनों को आसान बनाने के लिए मार्केट में 'पीरियड पैंटी' आ चुकी है। हालांकि अभी तक बहुत कम महिलाएं ही आगे पढ़ें »

ऊपर