बाजारों को समितियों और व्यवसायियों को करना होगा सैनिटाइजेशन

बिना मास्क के सामान बेचने व खरीदने वालों पर होगी कार्रवाई
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते देखकर राज्य सरकार ने आंशिक लॉकडाउन लगाने की घोषणा कर दी है। कई चीजों पर पाबंदी लगायी गयी हैं। इनमें बाजारों में खरीदारी की समय सीमा को भी कम किया गया है। बाजारों में सुबह 7 से 10 बजे तथा दोपहर 3 से शाम 5 बजे तक ही खरीदारी कर पायेंगे। इसके अलावा बाजारों में एक साथ भीड़ उमड़ने तथा बिना मास्क पहनकर खरीदारी करने पर प्रशासन का रवैया सख्त रहेगा। बिना मास्क पहने अगर दुकानदार सामान बेचते हैं तो कार्रवाई हो सकती है तथा ग्राहक पर भी कार्रवाई हाे सकती है।
बाजारों में सैनिटाइज करने की व्यवस्था
केएमसी व नगरपालिकाओं के अंतर्गत आने वाले बाजारों में नियमित रूप से सैनिटाइजेशन का काम जारी है। प्रशासन व केएमसी की तरफ से प्राइवेट बाजार समितियों तथा व्यवसायियों से यह अपील की जा रही है कि वे लोग बाजारों को नियमित रूप से सैनिटाइजेशन करें। सप्ताह में कम से कम 2 बार सैनिटाइजेशन करना होगा। इसके साथ ही बाजारों में बिना मास्क के खरीदारी की अनुमति नहीं होगी। केएमसी की तरफ से कहा गया है कि जिस तरह इससे पहले वाले कोरोना काल में बाजार, समितियां व व्यवसायियों ने प्रशासन का साथ दिया था, इस बार कोरोना की दूसरी लहर में भी साथ मांगा गया है।
बाजारों में ऐसी होनी चाहिए व्यवस्था
* ग्राहक व दुकानदारों के लिए मास्क जरूरी
* बाजारों में आने वालों के लिए हैंड सैनिटाइजेशन जरूरी
* थर्मल स्क्रीनिंग जरूरी है
एक नजर इस पर
कोलकाता नगर निगम के अंतर्गत 47 बाजार आते हैं। वहीं महानगर में करीब 358 बाजार हैं। उसी तरह से उत्तर 24 परगना में काफी संख्या में बाजार, हाट व खुदरा बाजार हैं। हावड़ा में भी 400 से अधिक बाजारों की संख्या है। वहीं इन जगहों पर ही कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लापरवाही : बाजारों में नहीं दिख रही दो गज की दूरी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। राज्य सरकार की तरफ से कई तरह की पाबंदिया भी की गयी है। आगे पढ़ें »

क्षमता 3 से 4 हजार की, टेस्टिंग के लिए आ रहे केवल 1200 सैंपल

नाइसेड का सनसनीखेज खुलासा टेस्टिंग रिपोर्ट मिलने में देरी भी सेकेंड वेव के नियंत्रण में परेशानी का बनी सबब सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ कॉलेरा एंड एंटरिक आगे पढ़ें »

ऊपर