महामारी के बीच ध्रुवीकरण नहीं, समावेशी वृद्धि की जरूरत : ममता

कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि कोविड-19 महामारी के बीच ध्रुवीकरण के बजाय समावेशी वृद्धि की जरूरत है। गुरुवार को एबीपी द्वारा आयोजित वर्चुअल इन्फोकॉम-2020 को संबोधित करते हुए ममता ने कहा कि कोरोना महामारी की वजह से बड़ी संख्या में लोगों ने जान गंवाई है। बड़ी संख्या में लोगों ने रोजगार भी गंवाया है। उन्होंने कहा ‘हमें कोविड-19 के टीके का इंतजार करना होगा। आगे टिके रहने के लिए एक दीर्घावधि की योजना की जरूरत है। सही प्राथमिकताओं पर ध्यान देने की जरूरत है। ध्रुवीकरण के बजाय समावेशी वृद्धि की जरूरत है।’

निवेश पर भी ममता ने बात की तथा कहा कि बंगाल सभी का सम्मान करता है। ममता ने कहा कि महामारी की स्थिति के बावजूद बंगाल आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य की आमदनी हालांकि कम हुई है, लेकिन अन्य राज्यों की तुलना में यह बेहतर है। मुख्यमंत्री ने कहा जीएसडीपी की वृद्धि, स्व-संचालन, ई-टेंडरिंग, एमएसएमई, असंगठित क्षेत्र, इस्पात, गरीबी उन्मूलन और कारोबार सुगमता के मामले में ‘नंबर वन’ है। ममता ने कहा कि निवेश के मामले में बंगाल अच्छा विकल्प है, इसलिए यहां आये और निवेश करें। उन्होंने कहा ​कि सिलीकॉन का दूसराह चरण भी यहां शुरू होने वाला है, उसके लिए 100 एकड़ जमीन सरकार की ओर से देने पर विचार किया जा रहा है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

टीकाकरण फिर शुरू, ‘कोविन पोर्टल’ में आई तकनीकी परेशानी

स्वास्थ्य विभाग का निर्देशः ताकि वैक्सीन डोज की एक बूंद भी न हो बेकार कोलकाताः पश्चिम बंगाल के 207 स्थलों पर सोमवार को कोविड-19 टीकाकरण अभियान आगे पढ़ें »

नंदीग्राम से ममता के लड़ने की घोषणा पर विपक्ष ने बोला हमला

‘भवानीपुर में हार समझ चुकी हैं, इसलिए नंदीग्राम को चुना’ कोलकाता : अपने विधानसभा केंद्र भवानीपुर में हारेंगी, इस कारण पूर्व मिदनापुर के नंदीग्राम से भी आगे पढ़ें »

ऊपर