आगामी 20 दिनों में कोरोना की रफ्तार पर ब्रेक लगने की संभावना

तेजी से टूटेगा कोविड चेन, संक्रमण का लेवल भी घटेगा
सिलीगुड़ी में रिकवरी रेट में काफी सुधार देखा जा रहा है। यहां पहले रिकवरी रेट 65 फीसदी था जो अब बढ़कर 95 फीसदी तक पहुंच गया : डॉ. प्रशांत कुमार वत्स
सिलीगुड़ीः आगामी 20 दिनों में कोरोना की रफ्तार पर और ब्रेक लगने और कोरोना संक्रमण की गति तेजी से घटने की भी उम्मीद है। उत्तर बंगाल में कोरोना पर काम कर रहे डाक्टरों की एक टीम ने दावा किया कि अगर इस दौरान लोग कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए पूरी तरह से सावधानी बरतें तो संक्रमण तेजी से कम होगा। और इंफेक्‍शन का लेवल सैचुरेशन तक पहुंच जायेगा।
बताया जाता है कि ऐसा होने पर कोरोना वायरस को मीडियम नहीं मिल पायेगा और नये केसों में काफी कमी आयेगी।
इसके साथ ही डाक्टरों ने बताया कि लोगों को काफी सावधानी से संक्रमण से बचना होगा। कोरोना के फैलाव को जितना ज्यादा कम किया जायेगा इसकी चेन उतनी तेजी से टूटेगी।
सिलीगुड़ी के वरिष्ठ डाक्टर प्रशांत कुमार वत्स ने बताया कि सिलीगुड़ी में रिकवरी रेट में काफी सुधार देखा जा रहा है। यहां पहले रिकवरी रेट 65 फीसदी था जो अब बढ़कर 95 फीसदी तक पहुंच गया है। पिछले पांच छह दिनों में यह रिकवरी रेट इसी जगह पर स्थिर है। बड़ी संख्या में नये केस आ रहे हैं लेकिन उस अनुपात में लोग ठीक होकर भी घर लौट रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासनिक तत्परता भी काफी अधिक है जिसके कारण यहां नये केसों में कमी आयी है। उन्होंने कहा कि कई केसों में बेहद गंभीर रूप से संक्रमित व्यक्ति भी पूरी तरह कोरोनामुक्त होकर घर लौटे हैं और रिकवरी रेट सौ फीसदी तक रहा है। इसे देखते हुए आशा की किरण भी जगी है और आने वाले वक्‍त में यह और सकारात्मक रहेगा।
उन्होंने कहा कि सिलीगुड़ी और दार्जिलिंग जिले के अन्य हिस्सों में जितने लोग संक्रमित या वैक्सीनेटेड हुए हैं तथा वे एंटीबॉडी कैरी कर रहे हैं सभी को अगर मिला लिया जाये तो यहां तीन लाख से अधिक की जनसंख्या वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी ले चुकी होगी।
उन्होंने बताया कि इस आंकड़े को देखे तो यहां अगर 40 फीसदी लोग भी संक्रमित होते हैं तो वायरस की संक्रमण दर कम होगी और वायरस की चेन तेजी से टूटनी शुरू हो जायेगी।
इसके साथ ही उन्होंने लोगों को ऐसे हालात में और सावधानी बरतने की अपील करते हुए कहा कि अभी ढिलाई का नहीं कड़ाई से कोविड से लड़ाई का वक्त है। उन्होंने कहा कि संक्रमण काल में वैक्सीन लेना ज्यादा निरापद है। लोगों को बड़ी संख्या में वैक्सीन लेना चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अस्पतालों में नहीं मिल रहे हैं डोम

युद्धस्तर पर हो रही हैं नियुक्तियां सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस के सेकेंड वेव ने स्वास्थ्य परिसेवा की स्थिति खराब सी कर दी है। आलम आगे पढ़ें »

दो श्मशान और एक कब्रिस्तान बना रही है कोलकाता नगर निगम

कोविड शवों की बढ़ती संख्या बढ़ा रही है प्रशासन की परेशानी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे है। इस आगे पढ़ें »

ऊपर