महंगाई से आम आदमी को लूट रही है केंद्र सरकार – ममता

सन्मार्ग संवददाता
मिदनापुर : रसोई गैस और ईंधन की बढ़ती कीमतों को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को भाजपा नीत केंद्र सरकार पर आम आदमी को ‘लूटने’ का आरोप लगाया। तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर कीमतों में वृद्धि जैसे मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाने के लिए सांप्रदायिक तनाव फैलाने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया। मिदनापुर कॉलेज मैदान में टीएमसी के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ममता ने आरोप लगाया, ‘केंद्र सरकार रसोई गैस, पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा करके आम आदमी को लूट रही है। आम आदमी का ध्यान भटकाने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार सांप्रदायिक तनाव फैला रही है।’ उन्होंने आरोप लगाते हुये कहा कि गैस से लेकर पेट्रोल दवाईयों आदि में केंद्र सरकार करोड़ों रुपयों की कटमनी खा रही है और प्रतिवाद करने पर लोगों को ड़राया जा रहा है। इस दिन उन्होंने कहा कि हमलोग अवश्य ही दिल्ली जीतेंगे केवल लोगों का साथ चाहिये।
‘भाजपा नेता आएं तो पूछें ये सवाल’
सीएम ने एक बार फिर से केंद्र सरकार पर बकाया नहीं देने का आरोप लगाया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि श्रमिकों को उनके हक के पैसे नहीं मिल रहे हैं। सीएम ने कहा कि 100 दिनों की कार्य योजना के लिए 15 दिनों के भीतर रुपये देने हाेते हैं मगर पांच महीने हो गए हैं, केंद्र द्वारा कोई भुगतान नहीं किया गया है। हमें केंद्र से जवाब चाहिए। सीएम ने लोगों से कहा कि जब कोई बीजेपी नेता आपके ब्लॉक में आए तो उन्हें रोककर अपने पैसे के बारे में पूछें। यदि आवश्यक हो तो शांतिपूर्ण प्रदर्शन करें। उनसे कहें “जवाब चाई, जवाब दाओ। 100 दिन एर टका दाओ,” यही हमारा नारा होना चाहिए। सीएम ने आरोप लगाया कि यही रवैया रहा तो भाजपा इस देश को बेच देगी। मैं मा-माटी-मानुष सरकार का समर्थन करने के लिए लोगों को धन्यवाद देना चाहती हूं। 11 बोछोर, उन्नयन-एर पोथे की पहली बैठक पश्चिम मिदनापुर के लोगों को समर्पित करती हूं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अंचल कमेटियों का गठन कहीं उल्टा न पड़ जाये भाजपा को

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : प्रदेश भाजपा में भले ही दस्तावेजों में मण्डल कमेटी का कार्य काफी हद तक हो गया है, लेकिन जमीनी स्तर पर असलियत आगे पढ़ें »

ऊपर