केंद्रीय परियोजनाओं का नाम न बदलने तक फंड ना भेजे केंद्र : शुभेंदु

4 केंद्रीय मंत्रियों को शुभेंदु ने दी चिट्ठी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : ​विभिन्न परियोजनाओं को लेकर केंद्र व राज्य के बीच विवाद राज्य के विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने और बढ़ा दिया है। केंद्रीय परियोजनाओं का नाम बदलकर अपने अनुसार कर राज्य सरकार काम कर रही है। अपने इन आरोपों के साथ विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने 4 केंद्रीय मंत्रियों को चिट्ठी दी। सभी चिट्ठी में शुभेंदु ने केंद्र व राज्य की एकाधिक परियोजनाओं की तुलना करते हुए शिकायत की है। इसके अलावा सारधा जांच में तेजी को लेकर शुभेंदु अधिकारी ने सीबीआई के डायरेक्टर काे भी चिट्ठी लिखी है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को लिखी गयी चिट्ठी में शुभेंदु ने कहा है कि केंद्र के ‘नेशनल स्किल डेवलपमेंट’ को ही राज्य सरकार ‘उत्कर्ष बांग्ला’ नाम देकर चालू कर रही है। ‘उत्कर्ष बांग्ला’ के माध्यम से राज्य के बेरोजगार युवकों, युवतियों के लिए रोजगार की व्यवस्था की जा रही है। एक ही प्रकार का काम ‘नेशनल ​स्किल डेवलपमेंट’ परियोजना के तहत हो रहा है, लेकिन शुभेंदु का आरोप है कि केवल केंद्र के कार्यों को छोटा दिखाने के लिए अपने अनुसार नाम देकर ममता बनर्जी की सरकार परियोजनाओं को चला रही है। इसके अलावा ‘प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का काम यहां ‘बांग्ला ग्रामीण सड़क’ योजना नाम से चल रहा है। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को दी गयी ​चिट्ठी में शुभेंदु ने केंद्र की ‘प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना’ को राज्य अपने अनुसार ‘बांग्ला मातृ प्रकल्प’ नाम से चला रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में सत्ता में रहने के कारण तृणमूल नेतृत्व केवल बल प्रयाेग के माध्यम से सभी परियोजनाओं को अपना कहकर चला रहा है। सभी चिट्ठियों में उन्होंने आवेदन किया है कि सभी परियोजनाएं केंद्रीय हैं और पूरा 100% रुपये केंद्र देता है। शुभेंदु ने मांग की कि नाम नहीं बदले जाने तक सभी परियोजनाओं के रुपये बंद कर दिये जाये।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बंगालः पति के रुपये व घर के गहने लेकर पत्नी प्रेमी संग फरार

सन्मार्ग संवाददाता मालदह : टोटो खरीदने के लिए थोड़े थोड़े रुपये जमा किये थे और लाखों रुपये बचाये थे,लेकिन पति का टोटो खरीदने का सपना पूरा आगे पढ़ें »

ऊपर