तपन दत्त मर्डर मामले की छानबीन में जुटी सीबीआई

मुख्य बातें
दर्ज की गयी एफआईआर
11 साल पहले हुई थी हत्या
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : सीबीआई की टीम ने हावड़ा स्थित तपन दत्त मर्डर मामले में एफआईआर दर्ज कर इसकी छानबीन शुरू कर दी है। वर्ष 2011 में बाली के रहने वाले तृणमूल नेता व पर्यावरणविद् तपन दत्त की हत्या कर दी गय थी। इस मामले में हाल ही में हाई कोर्ट ने सीबीआई को इसके जांच के आदेश दिये थे। इसके बाद से सीबीआई की टीम ने सीआईडी की टीम से अब तक की छानबीन का विवरण तथा एफआईआर की कॉपी मांगी थी। इसके मिलने के बाद ही सीबीआई की टीम ने भी सोमवार को एफआईआर दायर कर लिया। यहां बताते चलें कि इस हत्या के बाद से काफी बवाल मचा था। यही कारण है कि हत्या के 7 दिन के बाद ही इस घटना की छानबीन की जिम्मेदारी सीआईडी को सौंपी गयी थी। यही नहीं इस मामले में इंसाफ के लिए मृतक की पत्नी ने सीबीआई जांच की मांग के लिए सुप्रीम कोर्ट तक गयी थी। वहां से उन्हें यहां हाई कोर्ट में भेजा गया था। इस बार सीबीआई ने मामले की जांच का जिम्मा संभाला है।
अवैध रूप से लैंड​फिलिंग के खिलाफ आवाज उठाने पर मारी गयी थी गोली
आरोप है कि 2011 में हावड़ा में अवैध रूप से लैंडफिलिंग के खिलाफ आवाज उठाने पर तथा अवैध निर्माण के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने पर उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उनकी पत्नी व परिजनों ने पुलिस को यही बताया था।
आरोप था कि कई प्रभावशाली नेताओं की ओर से इशारा मिलने पर उनकी हत्या की गयी थी। हाई कोर्ट ने इसमें सही और निष्पक्ष छानबीन के लिए इसकी जिम्मेदारी सीबीआई को सौंपी है। मृतक की पत्नी प्रतिमा दत्त ने सीबीआई को जांच स्थानांतरित करने की मांग करते हुए हाई कोर्ट में अपील की थी। सीबीआई की टीम जल्द पीड़िता तथा अन्य परिजनों का बयान लेगी। साथ ही सभी सबूतों की जांच करेगी। उल्लेखनीय है कि उनकी पत्नी के मुताबिक काफी सबूत होने के बाद भी पुलिस ने कुछ अभियुक्तों के खिलाफ चार्जशीट दायर नहीं की थी।
कई नेताओं की मुश्किलें हैं बढ़ने वाली
सीबीआई सूत्रों के मुताबिक उनके पास इस मामले में कई नेताओं के नाम आ चुके हैं। पहले पीड़ितों का बयान लिया जाएगा। इसके अलावा घटनास्थल का दौरा किया जाएगा, जहां उन्हें गोली मारी गयी थी। इसके बाद इस मामले में गिरफ्तार हुए अभियुक्तों से पूछताछ की जाएगी। फिर उन नेताओं को बुलाया जाएगा जिनका नाम बार-बार इस मामले में आ रहा है। मृतक की पत्नी ने बताया कि वे सीबीआई द्वारा एफआईआर करने से काफी खुश है। अब उन्हें यह उम्मीद है कि उन्हें इंसाफ जरूर मिलेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शिक्षा मंत्री से मिला आश्वासन मगर नियुक्तियां कब ?

ब्रात्य बसु ने कहा, ‘कितने शून्य पद, एसएससी को कहा बताने’ सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु के साथ बैठक में नियुक्ति के आगे पढ़ें »

ऊपर