क्षमता 3 से 4 हजार की, टेस्टिंग के लिए आ रहे केवल 1200 सैंपल

नाइसेड का सनसनीखेज खुलासा
टेस्टिंग रिपोर्ट मिलने में देरी भी सेकेंड वेव के नियंत्रण में परेशानी का बनी सबब
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ कॉलेरा एंड एंटरिक डिजिज (नाइसेड) कोलकाता की निदेशक शांता दत्ता ने सनसनीखेज खुलासा किया है। संस्थान की ओर से दावा किया जा रहा है कि उनके पास रोजाना 3 से 4 हजार कोरोना वायरस के सैंपल को जांचने की क्षमता है। हालांकि देखा जा रहा है कि औसतन रोजाना केवल 1200 सैंपल ही उनके पास पहुंच रहे हैं। इस कारण कोरोना वायरस के नियंत्रण को लेकर माना जा रहा है कि दिक्कतें आ रही हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने भी राज्य को टेस्टिंग बढ़ाने के लिए कहा है।
शांता दत्ता का कहना है कि हमारे पास हर दिन 3-4 हजार कोरोना टेस्ट की संरचना है। लेकिन हमारे पास 1200 सैंपल भेजे जा रहे हैं। दत्ता ने राज्य में कोविड परीक्षण के बारे में दावा किया है कि हमारे हाथ में शक्तिशाली कोबास यंत्र हैं। इससे रोजाना 3-4 हजार नमूनों का परीक्षण आसानी से संभव है। दूसरी लहर में, जब कोविड परीक्षण का दबाव मजबूत होना चाहिए, केवल 1200 नमूने हमारे पास भेजे जा रहे हैं। अत्यधिक दबाव के बावजूद, अत्याधुनिक कोबास मशीन का उपयोग बिल्कुल नहीं किया जा रहा है।
कथित तौर पर, कोरोना रोगियों को परीक्षण के कई दिनों बाद रिपोर्ट मिल रही है। ऐसे ही आरोप राज्य के विभिन्न हिस्सों से आ रहे हैं। पूर्वी भारत में पहले दो या तीन राज्यों में से, बंगाल को पिछले साल कोबास 600 डिवाइस मिली थी। यह उपकरण पिछले साल अगस्त से प्रभावी है।
शांता दत्त के अनुसार नाइसेड को केंद्रीय अस्पतालों जैसे ईएसआई, गार्डनरिच हॉस्पिटल, कमांड हॉस्पिटल के साथ टैग किया गया है। ऐसे संस्थानों से आने वाले नमूनों का नाइसेड द्वारा परीक्षण किया जा रहा है। साथ ही बेलियाघाटा आईडी हॉस्पिटल और चिल्ड्रन हॉस्पिटल के कुछ नमूने वहां जा रहे हैं। हालांकि ह संख्या बेहद कम है। दूसरे शब्दों में, कोबास डिवाइस का उपयोग उस अर्थ में नहीं किया जा रहा है, जिस प्रकार से उसकी क्षमता है।
स्वास्थ्य भवन के सूत्रों के अनुसार, राज्य अपने पास मौजूद प्रयोगशालाओं और बुनियादी सुविधाओं पर निर्भर रहना चाहते हैं। संभव है कि नाइसेड को नमूने भेजने में कोई दिलचस्पी नहीं है। इसका मतलब है कि राज्य अपनी प्रयोगशालाओं में अस्पताल के नमूने रखने में रुचि रख रहे हैं। केंद्रीय संस्थानों को नमूने भेजने के लिए राज्य बहुत उत्सुक नहीं नजर आ रहा है।
कुछ जगहों में टेस्टिंग
संस्थान- कुल टेस्टिंग
नाइसेड-2,45,725
एसएसकेएम-3,39,725
एनबीएमसीएच-3,99,284
डॉ.लाल पैथ लैब-3,23,660
स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन-2,55,943
आरजी कर एमसीएच-2,93,288
मालदह एमसीएच-2,93,759
अब तक कुल टेस्टिंग राज्य में -1,09,05,646

शेयर करें

मुख्य समाचार

तो अब कुछ ऐसा दिखेगा आपका न्यू मार्केट

150 साल पुराने न्यू मार्केट का होगा नवीनीकरण, बदल जाएगी छवि सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः फिलहाल किसी प्रकार से काम चल रहा था। लेकिन विशेषज्ञों का कहना आगे पढ़ें »

रात को सोने से पहले दूध में मिलाकर पीना शुरू कर दें यह एक चीज, मिलेंगे चमत्कारिक लाभ

नई दिल्ली : अगर आपको तनाव रहता है और शारीरिक कमजोरी महसूस होती है तो ये खबर आपके काम आ सकती है। आज हम आपके आगे पढ़ें »

ऊपर