कोविड के बीच उपचुनाव : तृणमूल ने किया स्वागत, भाजपा से उठे सवाल

चार सीटों पर उपचुनाव क्यों नहीं ? उठे सवाल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : चुनाव आयोग द्वारा 30 सितंबर को तीन विधानसभा में चुनाव की घोषणा की है जिसमें भवानीपुर का उपचुनाव भी शामिल है। आयोग के इस फैसले का तृणमूल ने स्वागत किया है जबकि भाजपा ने इस पर सवाल खड़ा किया है। वाममोर्चा की तरफ से भी आयोग के फैसले पर शंका जतायी गयी है। कुल मिलाकर भवानीपुर सीट को लेकर राजनीतिक पार्टियों में जमकर खलबली मच गयी है। दरअसल भवानीपुर सीट ऐसी वैसी सीट नहीं बल्कि हॉट सीट है क्योंकि यहां से ममता बनर्जी चुनाव लड़ने वाली है। इसके अलावा समसेरगंज और जंगीपुर में कोविड के कारण उम्मीदवारों की मौत होने की वजह से चुनाव नहीं हो पाया था।
विरोधी दल के नेता व भाजपा विधायक शुभेन्दु अधिकारी ने कहा कि चुनाव आयोग के आदेश का हम स्वागत करते है लेकिन मौजूदा समय में कोविड की परिस्थितियों को देखते हुए हम नहीं चाहते थे कि कहीं भी चुनाव या उपचुनाव हो। इस समय में सिर्फ तीन सीट (भवानीपुर को लेकर) में चुनाव कराने का तात्पर्य समझ नहीं आ रहा है जबकि कोरोना की तीसरी लहर कभी भी धावा बोल सकती है। शुभेन्दु ने कहा कि चुनाव की तारीखों को लेकर तृणमूल लगातार भाजपा पर आरोप लगा रही थी कि आयोग इनके हाथ की कठपुतली है जो आयोग के इस घोषणा के बाद स्वत: ही गलत साबित हो गया।
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने आयोग के इस फैसले पर अचरज करते हुए कहा कि दो साल से निकाय चुनाव को रोक कर रखा गया है और एक सीट पर उपचुनाव की घोषणा आखिर क्यों कर दी गयी।
दूसरी तरफ तृणमूल महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि चुनाव आयोग ने जो निर्णय लिया वह सोच-समझ कर ही लिया होगा। बाकी जहां चुनाव होने है वह कब होंगे इसका फैसला भी आयोग पर है, हमारा काम है चुनाव की तैयारी करना जो हम करेंगे। तृणमूल के वरिष्ठ नेता व राज्य के मंत्री फिरहाद हकीम ने संवैधानिक नियमों के तहत यह उपचुनाव कराना आवश्यक था जिसे भाजपा निजी हितों के लिए बार-बार विफल करने की कोशिश कर रही थी। तृणमूल चुनाव आयोग के फैसले का स्वागत करती है तथा आश्वस्त करती है कि उपचुनाव के दौरान कोविड के नियमों का पूरी तरह पालन किया जाएगा।
कांग्रेस सांसद प्रदीप भट्टाचार्य ने आयोग के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि 6 महीने में उपचुनाव कराना जरूरी था, ऐसा करके आयोग ने उचित किया है।
सीपीआई(एम) कमेटी के सदस्य व पूर्व विधायक सुजन चक्रवर्ती ने कहा आयोग के फैसले का तो स्वागत किया लेकिन भवानीपुर के साथ सिर्फ दो और सीटों पर चुनाव पर उन्होंने सवाल उठाया। साथ ही दो साल से लंबित पड़े निकाय चुनावों को लेकर भी उन्होंने सवाल खड़े किये।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

डेंगू से बचने के लिए हावड़ा में कबाड़ में पड़ी कार को हटायेगा निगम

लार्वा मिलने पर इमारत में लगाये जा रहे हैं 'डेंगू हॉटस्पॉट' के पाेस्टर साढ़े 12 लाख रुपये की लायी गयी गप्पी मछली सन्मार्ग संवाददाता हावड़ा : डेंगू को आगे पढ़ें »

ऊपर