हावड़ा में बसें रहीं नदारद, टैक्सी व ऑटो ने दिलायी यात्रियों को राहत

  • लांच परिसेवा में लोगों की भारी भीड़, सड़कें रहीं जाम

हावड़ा : करीब डेढ़ महीने के बाद गुरुवार से राज्य सरकार की ओर से 50% यात्रियों के साथ बस परिसेवाओं को चालू किया गया, लेकिन हावड़ा स्टेशन की बात करें तो वहाँ पर बसें न के बराबर नजर आयीं। सुबह से ही स्टेशन परिसर के बाहर का हिस्सा बसों से नदारद दिखा। हालाँकि सड़कों पर ऑटो और टैक्सियां भले दौड़ती नजर आयीं, लेकिन यात्री बस के लिए परेशान रहे। सुबह से ही हावड़ा बस स्टैड के बाहर लाेग बस के इंतजार में लंबी कतारें लगा रखे थे, परंतु 1 घंटे के इंतजार के बाद भी लोगों को बसें नहीं मिलीं तो लोग पैदल ही अपने गंतव्य के लिए निकल पड़े।
71 रुट के बाहर लगी लोगों की लाइनें
दरअसल लोगों को यह जानकारी थी कि एक जुलाई से बसों की परिसेवाओं को बहाल कर दिया जाएगा, लेकिन उन्हें यह नहीं पता था कि केवल सरकारी बसें ही सड़कों पर दौड़ रही हैं और निजी बसें नहीं निकलेंगी। इसके बावजूद गुरुवार की सुबह हावड़ा मैदान में 71 नं. बस स्टैंड के निकट लोगों की भीड़ लग गई और लोग बस में चढ़ने की कोशिश करने लगे। अचानक आयी भीड़ को देखते हुए मौके पर ट्रैफिक पुलिस भी पहुँच गई। वहाँ लोगों ने बस में चढ़ने के लिए जबरदस्ती की हालाँकि बाद में ट्रैफिक पुलिस ने उन लोगों को समझाया कि अभी निजी बसें रोड पर नहीं उतरी हैं, केवल सरकारी बसें ही चल रही हैं।
निजी बसों के मालिकों ने की किराया बढ़ाने की मांग
राज्य सरकार की ओर से निजी बसों को भी चलाने की अनुमति दी गई थी, परंतु डीजल और पेट्रोल के बढ़ते दामों के कारण उन्होंने किराया बढ़ाने की माँग की है। ऐसे में जब तक राज्य सरकार उनकी माँगों को पूरा नहीं कर देती है तब तक वह रोड पर बसों को नहीं उतारेंगे। बस मालिकों का कहना है कि इतने दिनों से बसें बंद थीं। उन्हें वापस दुबारा चलाना व उनका मेंटेनेंस करना काफी मुश्किल है। वहीं पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के कारण किराये पर भी काफी असर होगा, इसलिए उन्होंने किराया बढ़ाने की माँग की है। अगर सरकार उनकी माँगों को पूरा कर देती है तो वे रोड पर बसों को उतारेंगे।
टैक्सी और प्राइवेट गाड़ियां वसूल रही हैं मनमाना किराया
गुरुवार की सुबह जब लोग बसों के लिए हावड़ा स्टेशन और हावड़ा बस स्टैंड पहुँचे तब वहाँ पर सरकारी बसें भी न के बराबर नजर आयीं। ऐसे में लोगों को अपने गंतव्य तक जाने के लिए टैक्सी या फिर प्राइवेट गाड़ियों के भरोसे रहना पड़ा। एक महिला यात्री ने बताया कि उनका ऑफिस न्यूटाउन में है और यहाँ पर एक भी बस नहीं होने के कारण वे काफी देर से बस का इंतजार कर रही थीं लेकिन जब उन्होंने टैक्सीवाले से न्यूटाउन जाने को कहा तो उसने 2 हजार रुपये की माँग की।
लॉन्च सेवाओं के लिए भीड़
गुरुवार को जिस तरह हावड़ा स्टेशन के आसपास बसें नदारद रहीं वहीं लॉन्च परिसेवाओं में काफी भीड़ देखी गई। हालाँकि लॉन्च को भी 50 प्रतिशत यात्रियों के साथ ही चलाया जा रहा है। इसके बावजूद वहाँ पर लोगों की भारी भीड़ रही। लोगों को हावड़ा से फेयरली प्लेस, अहिरीटोला जाने के लिए सुविधा तो हुई लेकिन भीड़ होने के कारण सभी को लांच में चढ़ने का मौका नहीं मिला। वहीं सफर करने वाले यात्रियों का कहना था कि अगर राज्य सरकार की ओर से ट्रेनों को चलाया जाता तो इससे और भी ज्यादा राहत मिलती।
सड़कें रहीं जाम
गुरुवार को ऑटो और टोटो सेवाओं को भी चालू कर दिया गया था जिसके कारण सड़कों पर गाड़ियों का लंबा जाम लग गया। इसमें गिरीश घोष रोड, जीटी रोड, एमजी रोड, नर्सिंग दत्त रोड, पिलखाना आदि शामिल थे। यहाँ सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक गाड़ियों की लंबी कतारें लगी रहीं। इनमें बाइकों की संख्या सबसे ज्यादा थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

तृणमूल के विधायक ने अपनी ही पार्टी के विधायक को मंच से धमकाया

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस के दो विधायकों के बीच तनाव की खबर है। हाल ही में विधायक हुमायूं कबीर ने आगे पढ़ें »

ऊपर