शक्ति-प्रदर्शन के लिए ब्रिगेड रहा है चुनावी अखाड़े का सबसे बड़ा मंच

ब्रिगेड का जन-सैलाब बताता है किस ओर बहेगी परिवर्तन की हवा
लेफ्ट-कांग्रेस के बाद मोदी और ममता भी कर रहे है ब्रिगेड में महासभा

– सोनू दूबे ओझा

कोलकाता : पश्चिम बंगाल अपना सरताज चुनने के लिए पूरी तरह तैयार है। तारीखों की घोषणा हो चुकी है। राजनीतिक पार्टियां चुनावी समर में उतर चुकी है। प्रचार में एक-दूसरे को पछाड़ने के लिए समस्त राजनीतिक दल नयी-नयी रणनीति पर काम कर रही है। इन सभी के बावजूद चुनावी प्रचार या कहे अपनी ताकत दिखाने के लिए बंगाल में सबसे बड़ा मंच ब्रिगेड मैदान को माना जाता है। यह वह चुनावी अखाड़ा है जहां हर राजनीतिक दल अपना शक्ति प्रदर्शन दिखाती है क्योंकि यह मैदान इतना बड़ा है कि यहां भीड़ एकत्रित करना ही तय कर देता है ​कि सत्ता तक पहुंचने में परिवर्तन की धारा किस दिशा में बहने वाली है।
आईएसएफ के साथ लेफ्ट-कांग्रेस दिखा चुकी ताकत
इस विधानसभा में ब्रिगेड में पहली मेगा रैली लेफ्ट-कांग्रेस की जोड़ी ने इंडियन सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ) के साथ मिलकर की। भीड़ अच्छी-खासी देखी गयी। लेकिन तीन पार्टियों की मिलीजुली भीड़ भाजपा और तृणमूल की मेगा रैली को टक्कर दे पाएगी की नहीं यह तो मोदी और ममता की सभा होने के बाद ही पता चल पाएगी।
7 फरवरी को भाजपा को दिखेगा शक्ति-प्रदर्शन
लेफ्ट-कांग्रेस की गठबंधन के बाद 7 फरवरी को भाजपा ब्रिगेड में शक्ति प्रदर्शन दिखाने जा रही है। इस मंच से पीएम मोदी बंगाल की सत्ता के लिए हुंकार भरेंगे। पूरे ब्रिगेड मैदान को समर्थकों से खचाखच भरने का दावा किया जा रहा है। मेदी की ब्रिगेड रैली कई मायनों में यह दिखाने वाला होगा कि बंगाल में जोड़ा फूल खिला रहेगा या कमल को मौका देगी जनता।
दीदी भी दिखाएंगी ब्रिगेड में ताकत !
तृणमूल सूत्रों की माने तो ममता बनर्जी भी इसी महीने ब्रिगेड में महासभा करने की योजना बना रही है। सूत्रों की माने तो ममता महारैली में भाजपा विरोधी पार्टियों को भी न्योता दे सकती है जहां दीदी अपनी ताकत दिखाएंगी। इसके पहले लोकसभा चुनाव के दौरान ममता ने ब्रिगेड में महारैली की थी जिसमें देशभर की तमाम भाजपा विरोधी पार्टियों के नेता शामिल हुए थे। इस सभा के बाद ही इसी मैदान में मोदी की मेगा रैली हुई थी।
इन दिग्गजों ने भी की है ब्रिगेड में सभा
ब्रिगेड का यह मैदान आज से नहीं बल्कि दशकों से सत्ता बनाने या बिगाड़ने का चुनावी अखाड़े का सबसे बड़ा मंच रहा है। इंदिरा गांधी, अटल बिहारी बाजपेयी, ज्योति बसु जैसे दिग्गज नेताओं ने भी ब्रिगेड को संबोधित किया है। इस मैदान की खासियत इसका आकार है जिसे भर पाना राजनीतिक दलों के लिए बड़ा चैलेंज होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 7 कोरोना मरीजों की मौत, भड़के परिजन

मुंबईः महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लापरवाही के कारण मरीजों की मौत का मामला सामने आया है। मुंबई के नालासोपारा ण्‍के एक आगे पढ़ें »

गर्मियों में इस वजह से झड़ते हैं ज्यादातर लोगों के बाल

  गर्मियों में बालों की झड़ने की समस्या आम बात है लेकिन जब आपके बाल रोजाना बहुत ज्यादा मात्रा में झड़ने लगे, तो समझिये आपको हेयर आगे पढ़ें »

ऊपर