हावड़ा में तृणमूल में आने के लिए भाजपा नेताओं की है लंबी लाइन : अरूप राय

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य में तृणमूल कांग्रेस की तीसरी बार सरकार बनने के बाद से भाजपा के कई बड़े नेताओं के सुर बदलने लगे। भाजपा के 5 विधायकों ने पार्टी छोड़ी और तृणमूल में शामिल हो गये। सबसे बड़ा झटका बाबुल सुप्रियो ने गेरुआ शिविर को दिया। अब हावड़ा तृणमूल यह दावा कर रही है कि जिला से भाजपा के कई पुराने नेता तृणमूल में आना चाहते हैं। ऐसे नेताओं की लंबी लाइन है मगर कुछ शर्तें रखी गयी हैं जिसे पूरा करने पर आलाकमान से हरी झंडी मिलने के बाद तृणमूल में इंट्री मिल सकती है। इस बारे में हावड़ा जिला तृणमूल कांग्रेस के चेयरमैन व मंत्री अरूप राय ने सन्मार्ग के साथ खास बातचीत की।
भाजपा के पुराने नेता बदलना चाहते हैं पार्टी
अरूप राय ने कहा कि भाजपा करने वाले नये समर्थकों की बात छोड़ दीजिए, भाजपा के ऐसे नेता तृणमूल में आना चाहते हैं जाे काफी समय से भाजपा में हैं। उन्हें कहा गया है कि वे मौखिक नहीं बल्कि लिखित रूप से आवेदन करें कि वे तृणमूल में आना चाहते हैं, उनके लिखित आवेदन को पार्टी नेतृत्व तक भेजा जायेगा। वहां से अगर हरी झंडी दिखायी जाती है तभी उन्हें तृणमूल में इंट्री मिलेगी।
विश्वासघातकों के बारे में अभी नहीं सोचा जा रहा
यह पूछे जाने पर कि क्या चुनाव से पहले तृणमूल छोड़कर भाजपा में जाने वालों को फिर से तृणमूल में जगह मिलेगी, इस पर अरूप राय ने कहा कि कइयों ने विश्वासघात किया है। ऐसे विश्वासघातकों के बारे में फिलहाल पार्टी नहीं सोच रही है। बता दें कि विधानसभा चुनाव से पहले हावड़ा में तृणमूल के कई विधायक व तृणमूल नेता भाजपा में शामिल हो गये थे। दो विधायकों को भाजपा ने टिकट भी दिया था मगर उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

एक क्लिक में पढ़ें अब तक की अहम खबरें

1. बंगाल में 16 नवंबर से खुलेंगे स्कूल, सबसे पहले कक्षा 9 से लेकर ऊपरी कक्षाओं तक के छात्रों को स्कूल कॉलेज में आने को आगे पढ़ें »

ऊपर