बड़ी खबरः शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु बोले,… तो इस दिन से बंगाल में स्कूल…

कोलकाताः कोरोना महामारी के कारण पश्चिम बंगाल में स्कूल और कॉलेज बंद हैं। खास कर प्राथमिक स्कूल लंबे समय से बंद हैं। प्राथमिक स्कूल के छात्रों पढ़ाने के लिए पश्चिम बंगाल शिक्षा विभाग ने ‘पाड़ाय शिक्षालय’ शुरू करने का ऐलान किया है। इसके तहत सात फरवरी से प्राथमिक और पूर्व-प्राथमिक सरकारी स्कूलों के छात्रों को खुले स्थानों पर पढ़ाया जाएगा। परियोजना के तहत कक्षा एक से पांच तक के छात्रों को प्रारंभिक शिक्षा प्रदान करने के लिए पारा-शिक्षकों और प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों को शामिल किया जाएगा। बता दें कि पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी की सरकार ने स्कूलों के बंद रहने के कारण प्राथमिक स्तर के बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए यह फैसला किया है। उन्होंने कहा कि बच्चे कोविड-19 महामारी की वजह से लगे प्रतिबंधों के कारण पढ़ाई से वंचित हैं। हमने अब खुले मैदान में कक्षाएं आयोजित करने का फैसला किया है। प्रारंभिक शिक्षा के अलावा, छात्रों को चित्रकारी समेत विभिन्न पाठ्येतर गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु ने कहा

राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु ने कहा कि ‘पाड़ाय शिक्षालय’ 7 फरवरी से शुरू हो रहा है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद नाम दिया है। यह बच्चों के लिए सामाजिक समर्थन का काम करेगा। गली और मोहल्ले में बच्चों की पढ़ने और लिखने में मदद की जाएगी। साथ में सांस्कृतिक कार्यक्रम और नृत्य और गीत में भी शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। बंगाल में 50,159 प्राथमिक विद्यालय, 15 हजार से अधिक बाल शिक्षा केंद्र और 2 लाख से अधिक शिक्षक इससे युक्त होंगे। इससे 60 लाख से ज्यादा छात्रों को फायदा होगा। पंचायत और नगरपालिका स्तर पर पढ़ाई की व्यवस्था की जाएगी।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पानीहाटी में तृणमूल कार्यालय पर बमबारी

पानीहाटी : खड़दह थाना अंतर्गत पानीहाटी के एंजेल नगर इलाके में कुछ समाज विरोधियों ने पहले बमबारी की। इसके बाद बीटी रोड मातारंगी भवन नामक आगे पढ़ें »

ऊपर