बड़ी खबरः कोविड संक्रमण से महिला गायनोकोलॉजिस्ट सहित 2 डॉक्टरों की मौत

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः कोरोना वायरस के संक्रमण से महिला गायनोकोलॉजिस्ट डॉक्टर सहित 2 डॉक्टरों की मौत हो गई। वेस्ट बंगाल डॉक्टर्स फोरम की ओर से इसकी जानकारी दी गई। जानकारी के मुताबिक 40 साल की उम्र में दिवंगत स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. रश्मि खंडेलवाल लगातार 10 दिनों से वेंटिलेशन पर थीं। आखिरकार युवा डॉक्टर ने शुक्रवार को मेडिका सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में अंतिम सांस ली। रश्मि खंडेलवाल ने नेशनल मेडिकल कॉलेज व अस्पताल से एमबीबीएस पास किया था। इसके बाद मेडिकल कॉलेज व अस्पताल से एमडी किया था। वह कोलकाता के एक निजी नर्सिंग होम में प्रसिद्ध स्त्री रोग विशेषज्ञ थीं। उन्हें एलर्जी की समस्या थी। इसके डर से शायद उन्होंने कोविड-19 का टीका नहीं लिया था। वेस्ट बंगाल डॉक्टर्स फोरम ने 40 साल की उम्र में रश्मि खंडेलवाल के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। फोरम ने अफसोस जताया, “अगर रश्मि खंडेलवाल को समय पर टीका लगाया गया होता, तो शायद ऐसा परिणाम नहीं होता।” दूसरी तरफ डॉ. अशोक कुमार ब्रह्म की मौत भी कोविड से ठीक होने के बाद हो गई। उन्हें 13 मई को खांसी, सांस लेने में तकलीफ और ऑक्सीजन में गिरावट के साथ भर्ती करवाया गया था। रेमडिसिविर, स्टेरॉयड और ब्लड थिनर के साथ बहुत अच्छी प्रतिक्रिया दी। इलाज के बाद आरटी पीसीआर किया गया जो निगेटिव आया। इसके बाद उन्हें फिर से बुखार आ गया। इस बार इलाज के साथ कोई प्रतिक्रिया उन्होंने नहीं दी। 24 मई को उनका निधन हो गया। वह एनआरएस मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के पूर्व छात्र थे। उत्तर दिनाजपुर जिला परिषद में चिकित्सा अधिकारी के पद पर कार्य किया। उन्होंने लगभग तीन दशकों तक गृहनगर रायगंज में अभ्यास किया, जिसे उन्होंने इस कोविड अवधि के दौरान जारी रखा। वह अपने विनम्र व्यवहार के लिए बहुत प्रसिद्ध थे। वह केवल 50 रुपये शुल्क लेते थे। स्थानीय स्वयंसेवी संगठन से भी वह जुड़े थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोरोना मरीज की मौत को कब नहीं माना जाएगा कोविड डेथ…

नई दिल्ली : कोरोना से मौत पर मुआवजे की मांग के लिए सुप्रीम कोर्ट में जो अर्जी दाखिल की गई थी, उसपर केंद्र सरकार ने आगे पढ़ें »

बेटे ने वित्तीय हालत खराब होने पर मां को भेजा वृद्धाश्रम, फिर…

औरंगाबाद: महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में एक बुजुर्ग महिला को वृद्धाश्रम में रहने के लिए मजबूर होना पड़ा, क्योंकि उसके बेटे ने कोरोना वायरस को आगे पढ़ें »

ऊपर