भाजपा की हुई बड़ी हार : 3 सीटों पर जमानत भी जब्त

भाजपा के नेता रह गये सिर फुटौवल में, बाजी मार ले गयी तृणमूल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : भाजपा नेताओं के दावे धरे के धरे रह गये और पूरी बाजी मार ले गयी तृणमूल। गत विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 200 से अधिक सीटें बंगाल में जीतने की बात कही थी, लेकिन 200 के करीब भी नहीं पहुंच पायी थी और केवल 77 सीटों तक सिमट गयी थी। अब कुछ ऐसा ही हाल पार्टी का विधानसभा उपचुनाव में भी हुआ। 6 महीने के अंदर ही भाजपा के पास से 2 और सीटें भी छिन गयीं। भगवा गढ़ में भी भाजपा अपनी सीटें नहीं बचा पायी और 4 में से 3 विधानसभा सीटों पर भाजपा की जमानत तक जब्त हो गयी।
कहीं लाख से अधिक ताे कहीं 50,000 का रहा अंतर
मंगलवार को राज्य की 4 विधानसभा सीटों पर चुनावी नतीजों की घोषणा की गयी। 4 विधानसभा सीटों के उपचुनाव में भाजपा का एक तरह से सूपड़ा साफ हो गया। सभी 4 सीटों पर तृणमूल को बड़े अंतर से जीत मिली है। कहीं लाख से अधिक वोट तो कहीं 50,000 वोटों से भाजपा काे तृणमूल ने मात दे दी। यहां तक कि भगवा गढ़ कूचबिहार के दिनहाटा और नदिया के शांतिपुर में भी भाजपा को मुंह की खानी पड़ी​।
कुछ इस तरह मिले वोट
भाजपा के गढ़ के तौर पर परिचित उत्तर बंगाल के दिनहाटा केंद्र में भाजपा उम्मीदवार अशोक मण्डल को कुल 25486 वोट मिले। यहां 19वें राउंड के बाद तृणमूल को कुल 189575 वोट मिले यानि कि भाजपा यहां से 1,64,089 वोटों से हारी। दिनहाटा में भाजपा को केवल 11.31% वोट मिले जबकि तृणमूल को 84.15% वोट मिले। यहां उल्लेखनीय है कि इस बार विधानसभा चुनाव में यहां से निशीथ प्रमाणिक ने जीत हासिल की थी, वह भी केवल 57 वोटों से। हालांकि सांसद पद छोड़ने के बजाय उन्होंने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और फिलहाल वह केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हैं। इस उपचुनाव में निशीथ प्रमाणिक अपने बूथ को भी नहीं बचा पाये और उनके बूथ से भाजपा को केवल 95 वोट मिले जबकि तृणमूल को भाजपा से 275 वोट अधिक मिले हैं। यहां तक कि भाजपा उम्मीदवार अशोक मण्डल के बूथ से भी तृणमूल की जीत हुई। इसी तरह दक्षिण 24 परगना के गोसाबा में तृणमूल उम्मीदवार सुब्रत मण्डल काे लाख से अधिक वोटों के अंतर से जीत मिली। यहां भाजपा को कुल 18,423 वोट मिले जबकि तृणमूल को 1,61,474 वोट मिले यानि भाजपा यहां से 1,43,051 वोटों के अंतर से हारी। यहां भाजपा को केवल 9.95% वोट मिले जबकि तृणमूल काे 87.19% वोट मिले। इधर, खड़दह में चुनाव के दिन मैदान में उतरकर भाजपा उम्मीदवार जॉय साहा ने लड़ाई की, लेकिन चुनाव के नतीजे काफी विपरीत आये। एक बार वह वाममोर्चा से भी पीछे हो गये थे, लेकिन अंत तक दूसरे नंबर पर रहे। यहां से तृणमूल के शोभनदेव चट्टोपाध्याय को कुल 1,14,086 वोट मिले जबकि भाजपा को केवल 20,254 वोटों से संतुष्ट होना पड़ा। यहां जीत – हार का अंतर 93,832 रहा। यहां भा​जपा को 13.07% जबकि तृणमूल को 73.59% वोट मिले। गत विधानसभा चुनाव में शांतिपुर से भाजपा उम्मीदवार जगन्नाथ सरकार ने जीत हासिल की थी, लेकिन उन्होंने सांसद पद नहीं छोड़ते हुए विधायक पद से इस्तीफा दे दिया। हालांकि उपचुनाव में भाजपा यहां भी फेल रही, यहां भाजपा की जमानत तो बज गयी, लेकिन जीत – हार का अंतर काफी है। तृणमूल को यहां से 1,12,087 वोट मिले जबकि भाजपा को 47,412 वोट मिले। शांतिपुर में भाजपा को 23.22% और तृणमूल को 54.89% वोट मिले। कुल मिलाकर सभी 4 केंद्रों में तृणमूल ने भाजपा को ‘ह्वाइट वॉश’ कर दिया जो 2024 लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के लिए किसी बड़े झटके की तरह है।
कब होती है जमानत जब्त ?
भारतीय चुनाव आयोग ने जमानत जब्त करने के लिए सख्त नियम बना रखा है। इसके मुताबिक जब कोई प्रत्याशी अपने क्षेत्र में पड़े कुल वैध मतों का छठा हिस्सा यानि 16.6% वोट भी हासिल नहीं कर पाता है तो उसकी जमानत राशि जब्त हो जाती है। ये सिलसिला पहले लोकसभा चुनाव से चलता आ रहा है। उदाहरण के तौर पर अगर किसी निर्वाचन क्षेत्र में 1000 लोगों के वोट दिया है तो उम्मीदवार अपनी जमानत बचाने के लिए कम से कम 166 वोट की जरूरत होगी । अगर प्रत्याशी को इससे एक वोट भी कम मिलता है तो उसकी जमानत जब्त हो जाएगी ।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

त्रिपुरा में भाजपा की शानदार जीत के बाद कोलकाता में जश्न का माहौल

कोलकाताः त्रिपुरा में 14 नगर निकायों के लिए हुए चुनाव के नतीजे आज आ रहे हैं। वोटों की गिनती अभी जारी है, और बीजेपी दूसरी आगे पढ़ें »

तृणमूल की मतगणना समिति के सदस्य और उम्मीदवार पर भाजपा ने किया हमला

कोरोना का अफ्रीकन वैरिएंट: जिन्हें वैक्सीन लग चुकी, उन पर अटैक करेगा या नहीं? पढ़ें सब कुछ

न्यूटाउनः पेड़ की कटाई देखने गये 9 साल के बच्चे की मौत

मुर्शिदाबाद: मां और दो बेटियों की आग में झुलसने से मौत

​त्रिपुराःआमबासा में तृणमूल से अकेले जीत हासिल करने वाले तृणमूल प्रार्थी सुमन पाल ने क्या कहा सुनिये…

मन की बात: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद….

त्रिपुराः आमबासा नगर निकाय की 15 में से 12 सीट पर खिला कमल, टीएमसी और माकपा

नदिया में हुई सड़क दुर्घटना में मौत पर गृहमंत्री ने जताया शोक

सिर्फ 3 तरीकों से घट जाएगा वजन, बिना डाइटिंग बनेंगे फैट टू फिट

ऊपर