बड़ा फैसला : अब पेपरलेस होगा कोलकाता नगर निगम

कोविड के कारण लिया गया बड़ा फैसला
अब ई-फाइल से काम करेंगे अधिकारी
ई-फाइलों की होगी ट्रेकिंग
रिकॉर्ड रूम में 12 साल पुराने तक की फाइलों को किया जाएगा संरक्षित
सोनू ओझा
काेलकाता : कोविड के कारण कई तरह के बदलाव जिंदगी में आये हैं जिसका असर किसी न किसी तरीके से हर क्षेत्र में पड़ा है। काेविड के असर से कागज भी अछूते नहीं रहे हैं। कोविड का हवाला देते हुए कोलकाता नगर निगम की कार्यशैली में बड़ा बदलाव किया गया है। अब निगम के सारे काम पेपरलेस होंगे। इसकी जानकारी कोलकाता नगर निगम के मेयर फिरहाद हकीम ने दी। मेयर ने बताया कि दो कारणों की वजह से यह कदम उठाया गया है। कोरोना इसका एक कारण है, दूसरा कारण सालों पुरानी फाइलें हैं जिन्हें डिजिटली तब्दील करना आवश्यक है।
ई-फाइल से होंगे काम, की जाएगी ट्रेकिंग
मेयर ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से इस बाबत दो साल पहले ही नियम लागू किया जा चुका है कि अधिकारी ई-फाइल के जरिये काम करेंगे। कोलकाता नगर निगम के मुख्यालय से इसकी शुरुआत की जाएगी। आने वाले समय में बोरो स्तर पर भी इसे चालू किया जाएगा। इसके अलावा अधिकारी अपने पास कितने दिनों तक काम पेंडिंग रख रहा है उस पर भी नजर रखते हुए ई-फाइलों की बराबर ट्रेकिंग की जाएगी ताकि काम में पारदर्शिता बनी रहे।
तैयार होगा निगम का नया रिकॉर्ड रूम
कोलकाता नगर निगम का मुख्यालय दशकों पुराना होने के साथ ही साथ हेरिटेज भी है। जाहिर है यहां सालों पुरानी चीजों को रिकॉर्ड रूम में रखा गया है। इस रिकॉर्ड रूम को जल्द दूसरी जगह शिफ्ट किया जाएगा। मेयर ने बताया कि निगम आसपास कहीं जगह तलाश रहा है जहां जल्द से जल्द नया रिकॉर्ड रूम बनाया जाएगा। मेयर ने बताया कि कोलकाता नगर निगम में ब्रिटिश जमाने के कई फर्नीचर आज भी जहां-तहां पड़े हुए हैं जिसमें न जाने कितने फर्नीचर कबाड़ में बदल गये हैं। इन फर्नीचरों में आलमारी, टेबल, कुर्सी हर कुछ शामिल है जिनका इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। इसके अलावा कई फाइलें भी रद्दी की तरह बनी हैं। उन्हें उनके महत्व के आधार पर अलग किया जाएगा।
तीन श्रेणियों में रखा जाएगा फाइलों का रिकॉर्ड
पहली श्रेणी उन फाइलों की होगी जिनका इस्तेमाल हमेशा ​किया जाता है।
दूसरी श्रेणी में वे फाइलें रखी जाएंगी जो कोर्ट के मामलों से जुड़ी हैं।
तीसरी श्रेणी में 12 साल पुरानी तक फाइलों को रखा जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बीरभूम में दिल दहलाने वाली घटनाः 7 महीने से पति ने नहीं भेजा पैसा, पत्नी ने 3 बच्चों के साथ, जानिये पूरा मामला

कोलकाताः पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के किरनाहर में शनिवार सुबह एक दिल दहलाने वाली घटना घटी है। इससे पूरे इलाके में हड़कंप मच गया आगे पढ़ें »

ऊपर