प्रशासनिक अधिकारियों का राजनीतिक कार्यकर्ता बनना खतरनाक : धनखड़

कलिम्पोंग : राज्य के प्रशासनिक अधिकारियों का राजनीतिक कार्यकर्ताओं से भी अधिक राजनीतिक बन जाना खतरनाक संकेत है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बुधवार को कलिम्पोंग में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में यह मंतव्य व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि मेरा कलिम्पोंग का डेलो जाना तय था और प्रशासन को इसकी सूचना दी गयी थी लेकिन ऐन वक्त पर मुझे मरम्मत की बात बताकर वहां जाने से रोक दिया गया। मैं अपने संसाधन से इंतजाम कर यहां की यात्रा कर रहा हूं। यह सरासर गलत है।

उन्होंने कहा कि जब राज्य की मुख्यमंत्री कहीं जाती हैं तो प्रशासनिक अधिकारी वहां नृत्य करते रहते हैं लेकिन राज्य के संवैधानिक प्रधान की यात्रा को कहीं भी प्रशासनिक अधिकारी गंभीरता से नहीं लेते हैं। उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में अपहरण और हत्या की घटनाओं में वृद्धि हो रही है लेकिन पुलिस और प्रशासन सुपर बॉस के इशारे पर मदमस्त है। उन्होंने सवाल पूछा कि आईपीएस अधिकारी ज्ञानवंत सिंह के खिलाफ जांच क्यों रोकी गयी? किसके इशारे पर ऐसा किया गया? हमने एक वर्ष इसकी जांच के स्टेट्स के बारे में गृह विभाग से जानकारी मांगी थी लेकिन हमें अब गृह विभाग के अतिरिक्त सचिव बता रहे हैं कि कोई जांच पेंडिंग नहीं है।

राज्यपाल ने कहा कि राज्य में सरकारी तंत्र पूरी तरह राजनीति से प्रेरित होकर काम कर रहा है। राज्य में पुलिस महानिदेशक और मुख्य सचिव प्रशासनिक प्रधान नहीं बल्कि मुख्यमंत्री द्वारा नोमिनेटेड ठेके पर रखे गये रिटायर्ड आईएएस अधिकारी रीना मित्रा (2019) और रिटायर्ड डीजीपी सुरजीत पुरकायस्थ (2018) सुपर बॉस हैं। यह व्यवस्था ही गलत है। राज्य के एसीएस होम का आचरण बेहद खराब और अमर्यादित है। पब्लिक डोमेन में रहकर राज्यपाल के साथ वे जो कुकृत्य कर रहे हैं इसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ेगा।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

beaten

ब्रेकिंग : तृणमूल कांग्रेस के बूथ सभापति की पीट-पीटकर हत्या

बर्दवान : मंगलकोट विधानसभा क्षेत्र के बूथ नंबर 197 में भाजपा समर्थित उपद्रवियों ने तृणमूल कांग्रेस के बूथ सभापति की पीट-पीटकर हत्या कर दी।घटना की आगे पढ़ें »

ममता बनर्जी पर तंज – बंगाल के लोग अब चप्पल नहीं जूते पहनना चाहते हैं

कोलकाता : बंगाल के भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी पर तंज कसते हुए कहा कि राज्य के लोग हवाई चप्पल नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर