भाजपा में मची हलचल, तृणमूल में वापसी को तैयार कई नेता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिली। बंगाल में चले महामुकाबले में ‘खेला होबे’ के नारे ने बाजी मार ली। विधानसभा चुनावों से पहले जब तृणमूल कांग्रेस के 30 से ज्यादा नेताओं ने बीजेपी ज्वाइन कर ली, तब बीजेपी का पलड़ा भारी दिखने लगा था लेकिन अब खेल पूरी तरह से पलट गया है और अब कई नेता घर वापसी की तैयारी में हैं। सूत्रों का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय, जो एक वक्त पर ममता बनर्जी के करीबियों में गिने जाते थे फिर से टीएमसी में लौट सकते हैं। इन अटकलों को तब और भी बल मिला जब अभिषेक बनर्जी उस अस्पताल पहुंचे, जहां पर मुकुल रॉय की पत्नी का इलाज चल रहा है। सिर्फ मुकुल रॉय ही नहीं, बल्कि कई अन्य नेताओं ने भी टीएमसी में घर वापसी के संकेत दिए हैं। इन सभी की लिस्ट यहां देख सकते हैं…

उत्तरपाड़ा से पूर्व टीएमसी विधायक प्रबीर घोषाल ने बीजेपी में अपनी नाराजगी व्यक्त की है। मीडिया से बात करते हुए प्रबीर घोषाल ने कहा कि जब उनकी मां का देहांत हुआ तब टीएमसी के सांसद, विधायकों ने उनसे बात की। ममता बनर्जी ने भी अपनी ओर से संदेश भेजा, लेकिन बीजेपी में सिर्फ लोकल नेताओं ने शोक जताया। इससे मुझे काफी दुख पहुंचा। बता दें कि प्रबीर घोषाल ने चुनाव से पहले बीजेपी ज्वाइन की थी, लेकिन उत्तरपाड़ा से चुनाव हार गए थे।
एक अटकल राजीव बनर्जी को लेकर भी चल रही है कि वो वापस टीएमसी में जा सकते हैं। राजीव बनर्जी पहले भी ममता सरकार में मंत्री रहे हैं, चुनाव से पहले बीजेपी में आ गए थे। हाल ही में दिए उनके बयान चर्चा का विषय बने हुए हैं, उन्होंने कई मौकों पर बीजेपी की नीतियों पर सवाल खड़े किए हैं। बीजेपी के कुछ नेताओं ने उनपर पलटवार भी किया है।
दीपेंदु बिश्वासपूर्व विधायक दीपेंदु बिश्वास ने ममता बनर्जी को चिट्ठी लिख माफी मांगी है। चुनाव से पहले जब टीएमसी ने टिकट नहीं दिया था, तब दीपेंदु ने बीजेपी ज्वाइन कर ली थी। दीपेंदु नॉर्थ 24 परगना की बासिरहाट दक्षिण से विधायक रह चुके हैं। ममता को लिखी चिट्ठी में दीपेंदु ने कहा कि पार्टी को छोड़ने का फैसला गलत और इमोशनल था, अब वो वापस आना चाहते हैं।
सोनाली गुहाटीएमसी की विधायक रहीं सोनाली गुहा ने ममता बनर्जी को चिट्ठी लिख पार्टी छोड़ने के फैसले पर अफसोस जताया। ममता को उन्होंने लिखा कि जैसे मछली पानी के बिना नहीं रह सकती, मैं आपके बिना नहीं रह सकती हूं। दीदी मैं माफी चाहती हूं, अगर आप माफ नहीं करेंगी तो मैं जी नहीं पाउंगी।
सरला मुर्मूटिकट बंटवारे को नाराज चल रही सरला मुर्मू ने चुनाव से पहले टीएमसी छोड़ बीजेपी का दाम थाम लिया था। लेकिन अब उन्होंने इसे गलती माना और कहा कि अगर ममता बनर्जी उन्हें स्वीकार कर लेती हैं तो वह उनके साथ रहेंगी और पार्टी के लिए काम करेंगी।
अमोल आचार्यनॉर्थ दिनाजपुर से विधायक अमोल आचार्य का कहना है कि वह बीजेपी छोड़ रहे हैं, क्योंकि सीबीआई जिस तरह से टीएमसी नेताओं के खिलाफ एक्शन ले रही है वह गलत है। अमोल आचार्य ने बीजेपी पर बदले की राजनीति का आरोप लगाया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

तृणमूल सांसद मिमी चक्रवर्ती के साथ धोखा, फर्जी टीकाकरण शिविर में लगवा दी ‘वैक्सीन’

कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस पार्टी की सांसद मिमी चक्रवर्ती के साथ 'धोखा' हो गया है। दरअसल, सांसद चक्रवर्ती ने दावा किया है कि उन्होंने कोलकाता आगे पढ़ें »

सेंट्रल एवेन्यू के कपड़े के गोदाम में लगी आग

कोलकाताः जोड़ासांको थाना अंतर्गत 155 सेंट्रल एवेन्यू के एक बिल्डिंग के एक तल्ले पर स्थित रुमाल के गोदाम में आग लग गई। बुधवार की दोपहर आगे पढ़ें »

ऊपर