बैंक हड़ताल से परेशान रहे ग्राहक, आज भी परिसेवा रहेगी प्रभावित

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः पश्चिम बंगाल में सोमवार को बैंकिंग परिचालन बुरी तरह प्रभावित हुआ, क्योंकि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के अधिकारी और कर्मचारी दो राज्य-स्वामित्व वाले बैंकों के प्रस्तावित निजीकरण के विरोध में हड़ताल पर चले गए थे। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू), नौ यूनियनों की एक संस्था है, जिसने 15 और 16 मार्च को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया था और दावा किया था कि बैंक के लगभग 10 लाख कर्मचारी और अधिकारी हड़ताल में भाग लेंगे। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉन्फेडरेशन (एआईबीओसी) के संयुक्त महासचिव संजय दास ने कहा कि हमारे हड़ताल के आह्वान को नेशनल कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑफिसर्स एसोसिएशन, किसानों, सीटू और एटक द्वारा भी समर्थन दिया गया है। हमें जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली है। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में सार्वजनिक, निजी और विदेशी बैंकों की लगभग 6,000 शाखाएँ हैं। राज्य की अधिकांश बैंक शाखाएँ हड़ताल के कारण बंद रहीं। अस्पतालों, रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों पर स्थित एटीएम को छोड़कर कोई काम नहीं कर रहा है। हालांकि, निजी क्षेत्र के बैंकों जैसे आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक और एक्सिस बैंक की शाखाएं खुली थीं, क्योंकि वे हड़ताल का हिस्सा नहीं थे। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में सरकार के विनिवेश योजना के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के निजीकरण की घोषणा की थी। सरकार ने पिछले चार वर्षों में 14 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का विलय किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मसूड़ों को न करें नजर अंदाज

मसूड़ों की तकलीफ एक आम समस्या है। बहुत सारे लोग इस तकलीफ से जूझते हैं पर समय पर इलाज नहीं करवाते क्योंकि वे दांतों की आगे पढ़ें »

घर के मेन गेट से खुलता है किस्मत का दरवाजा

नई दिल्ली : वास्तु शास्त्र के अनुसार किसी भी घर के मुख्य द्वार यानी मेन गेट का खास महत्व होता है। मुख्य दरवाजे से ही आगे पढ़ें »

ऊपर