धरने पर बैठ पुराना शौक पूरा कर रहीं ममता बनर्जी, पेंटिंग बना समर्थकों को दिखाईं

कोलकाता : चुनाव आयोग की ओर से प्रचार करने पर 24 घंटे के बैन के विरोध में पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी धरने पर बैठ गई हैं। धरने पर बैठने के दौरान वह पेंटिंग्स बनाने में व्यस्त हैं। कई पेंटिंग्स बनाकर उन्होंने अपने समर्थकों को भी दिखाई हैं। गांधी स्टेच्यू के पास धरने पर बैठीं ममता बनर्जी पेटिंग की शौकीन रही हैं। व्हीलचेयर पर आईं ममता बनर्जी एक खाली कैनवास, कुछ पेंटब्रश और कलर अपने साथ लेकर आई हैं। उनके आसपास भीड़ न जुट सके, इसलिए बैरिकेडिंग कर दी गई है। वह अकेले ही धरनास्थल पर बैठी हैं। टीएमसी के एक सीनियर नेता ने बताया कि पार्टी के किसी भी नेता को ममता बनर्जी के पास जाने की अनुमति नहीं दी गई है। वह अकेले ही बैठी हैं। हालांकि ममता बनर्जी से कुछ दूरी पर पार्टी के कार्यकर्ता और उनके समर्थक प्रदर्शन कर रही हैं। धार्मिक आधार पर वोटरों से एक होने की अपील करने को चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी की ओर से आचार संहिता का उल्लंघन माना था। यही नहीं आयोग ने उनके चुनाव प्रचार करने पर एक दिन का बैन लगा दिया था। उन पर लगा यह बैन आज रात को समाप्त हो रहा है। इस बीच खबर है कि बैन समाप्त होने के बाद बुधवार को वह कूच बिहार जाएंगी।
बता दें कि बंगाल चुनाव में फिलहाल कूच बिहार चर्चा का केंद्र बना हुआ है। चौथे चरण की वोटिंग के दौरान कूच बिहार के सितालकुची में फायरिंग से 4 लोगों की मौत हो गई थी। केंद्रीय सुरक्षा बलों पर भीड़ के हमले के बाद जवानों ने फायरिंग कर दी थी, जिसमें ये मौतें हुई थीं। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि जवानों को भीड़ के हमले से बचने के लिए गोलियां चलानी पड़ी थी, जो धारदार हथियारों से लैस थी। बता दें कि पश्चिम बंगाल में 8 चरणों में मतदान होना है, जिनमें से 4 राउंड पूरे हो चुके हैं। 2 मई को केरल, तमिलनाडु, असम और पुडुचेरी के साथ ही पश्चिम बंगाल के परिणाम भी आएंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

रोजाना आ रहे हैं सैकड़ों शव, चरमरा रही है श्मशान घाटों की व्यवस्था

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना की दूसरी लहर का प्रकाेप कुछ इस कदर बढ़ा है कि श्मशान घाटों में रोंगटे खड़े करने वाली तस्वीरें देखने को आगे पढ़ें »

ट्रैफिक गार्ड के ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर का मरम्मत कराएगी पुलिस

कोविड के खिलाफ जंग में लालबाजार ने कसी कमर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना की दूसरी लहर के दौरान शहरवासियों की हालत खराब है। अस्पताल में बेड आगे पढ़ें »

ऊपर