अणुव्रत मंडल व बॉडीगार्ड सहगल अब ईडी के निशाने पर

मुख्य बातें
सीबीआई से मांगी गयी इनकी फाइलें, जल्द कर सकती है तलब
ईडी करेगी मनी लां​ड्रिंग व फेमा के तहत छानबीन
सहगल से अन्य अभियुक्तों के बारे में जानकारी मांग सकती है ईडी
ईडी अधिकारी जानना चाहते हैं कि बॉडीगार्ड की नौकरी कर कैसे बने 100 करोड़ की संपत्ति के मालिक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोयला व मवेशी तस्करी की छानबीन के मामले में ईडी की टीम के निशाने पर अब तृणमूल के बीरभूम जिला के अध्यक्ष अणुव्रत मंडल व उनका बॉडीगार्ड सहगल हुसैन हैं। बॉडीगार्ड फिलहाल जेल हिरासत में है। इसके लिए सीबीआई के अधिकारियों से ईडी की दिल्ली की टीम ने इनसे संबंधित फाइलें मांगी हैं। इनके खिलाफ ईडी की टीम फेमा व मनी लांड्रिंग के तहत छानबीन करने जा रही है। उल्लेखनीय है कि सीबीआई की टीम ईडी की टीम से इन मामलों में आगे है। इसका कारण यह है कि सीबीआई ने इसकी छानबीन पहले शुरू की थी। ऐसे में ईडी की टीम को इन दोनों मामलों में कोई भी जानकारी चाहिए होती है तो वह सीबीआई की टीम से ले लेती है। अब ईडी, दिल्ली की टीम ने कोयला तथा मवेशी तस्करी मामले में सीबीआई द्वारा की गयी अब तक छानबीन से जुड़ी नयी जानकारी मांगी है। मवेशी तस्करी व कोयला तस्करी मामले की छानबीन ईडी की दिल्ली टीम की ओर से शुरू की गयी है। इस मामले में अब तक कई नेताओं से पूछताछ की गयी है। पिछले 9 जून को सीबीआई की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पशु तस्करी मामले में अणुव्रत मंडल के बॉडीगार्ड सहगल हुसैन को गिरफ्तार कर लिया था। इसके साथ ही अणुव्रत मंडल पर दबाव बनाने की कोशिश की थी।
करोड़ों की अघोषित संपत्ति में हो सकता है विदेशी लिंक
बाडीगार्ड सहगल हुसैन के पास कराेड़ों की संपत्ति का पता ईडी की टीम को चला है। इस मामले में सीबीआई की टीम उसके मुर्शिदाबाद स्थित घर व रिश्तेदारों के यहां छापामारी कर चुकी है और करोड़ों की संपत्ति का पता लगाया है। इसकी पूरी जानकारी ईडी की टीम को चाहिए। इसके लिए चिट्ठी सौंपी गयी है। ईडी की टीम को इस सवाल का जवाब चाहिए कि आखिर सहगल ने राज्‍य पुलिस में कांस्‍टेबल के पद पर कार्य करते हुए इतनी अधिक संपत्ति कैसे अर्जित की। क्या इसमें किसी और की भी संपत्ति है। वहीं अणुव्रत की संपत्ति के बारे में ईडी की टीम को पता चला कि दर्जनों जमीन के कागजात उनकी पत्नी व बेटी के नाम पर है। काफी अघोषित संपत्ति का पता चला है। वहीं सहगल के पास न्यू टाउन में फ्लैट, 200 बीघा जमीन तथा डम्पर तथा पेट्रोल पंप, आभूषण और अन्य संपत्तियां हैं, जिन पर फिलहाल छानबीन जारी है। कुल मिलाकर 100 करोड़ रुपये से भी अधिक की संपत्ति का पता चला है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

एसएससी के पूर्व सलाहकारों की जमानत अर्जी खारिज

कोलकाता : एसएससी के दो पूर्व सलाहकार शांतिप्रसाद सिन्हा (एसपी सिन्हा) और अशोक साहा 7 दिनों के लिए सीबीआई की हिरासत में रहेंगे। सीबीआई के आगे पढ़ें »

ऊपर