सास की फटकार से नाराज बहू 2 बच्चों संग कुएं में कूदी, बच्चों की हुई मौत

काम के समय में मोबाइल पर व्यस्त बहू को सास ने लगायी थी फटकार
पुरुलिया : घर के काम के समय बहू शीतला महतो को मोबाइल पर व्यस्त देख सास ने उसे जमकर खरी-खोटी सुनायी। आरोप है कि सास द्वारा डांटे जाने से नाराज बहू अपने दो बच्चों के साथ कुएं में कूद गयी। इस घटना में दोनों बच्चों की मौत हो गयी। वहीं बहू की हालत खराब बतायी जा रही है। जानकारी के अनुसार, मंगलवार को जिला के मफस्सल थाना क्षेत्र स्थित चाकड़ाग्राम में यह घटना घटी है। पुलिस के अनुसार, आये दिन सास व बहू का विवाद होता रहता था। मंगलवार को हुए विवाद ने बड़ा रूप धारण कर लिया और मामला आत्महत्या तक जा पहुंचा। पुलिस के अनुसार मरने वालों की पहचान पूर्णिमा महतो (5) और राखी महतो (3) के रूप में हुई है। घायल मां का नाम शीतला महतो है। स्थानीय लोगों व पुलिस सूत्रों के अनुसार शीतला देवी का पति लक्ष्मण महतो पुरुलिया कस्बे के एक हार्डवेयर की दुकान पर दिहाड़ी मजदूरी करता है। लक्ष्मण तीन भाई हैं। उस परिवार में लक्ष्मण महतो की मां साथ में रहती हैं। वह लकवा से ग्रसित है। आरोप है कि बीमार पड़ने के बाद से ही वह चिड़चिड़ी स्वभाव की हो गयी है। आरोप है कि शीतला देवी को मोबाइल पर व्यस्त देख वह उसे डांटने लगी। पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि डांट से नाराज बहू तुरंत अपने दो बच्चों को एक कपड़े से अपने शरीर के साथ बांध घर से करीब 350 मीटर दूर एक कुएं में कूद गई। शीतला देवी जैसे ही अपने दो बच्चों के साथ घर से निकली, उसका 12 वर्षीय पुत्र परितोष भी उसके पीछे दौड़ा लेकिन वह अपनी मां को नहीं रोक सका। उसने दौड़कर स्थानीय लोगों को सूचना दी। जानकारी मिलते ही उसी गांव का एक सीवीपीएफ का जवान भी दौड़ कर मौके पर पहुंचा और स्थानीय लोगों की मदद से तीनों को कुएं से निकालने का प्रयास किया। पुरुलिया मफस्सल पुलिस ने बताया कि कुएं में कूदते समय बच्चे मां से अलग हो गये और वे सभी कुएं के तल में चले गये। बचाव अभियान शुरू होने के तुरंत बाद स्थानीय निवासी और पुलिस बहू को बचाने में सफल रही पर बच्चों को वे नहीं बचा सके। काफी प्रयास के बाद दोनों बच्चों को कांटों (लोहे की मशीन) की मदद से बाहर निकाला गया। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने दोनों बच्चों को मृत घोषित कर दिया। शीतला देवी तड़प-तड़प कर अस्पताल के बिस्तर पर पड़ी थी। उसने पुलिस को बताया कि उसके साथ ऐसी घटना हुई है। अपने बच्चों को खोने के बाद वह कहती रही कि अब जीवित रह कर वह क्या करेगी। इस दुखद घटना से गांव में भी शोक की छाया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अब जावेद अख्तर लिखेंगे खेला होबे पर गीत

दीदी ने कहा, इस स्लोगन को दीजिए गीत का रूप ममता से मिलने पहुंचे जावेद अख्तर और शबाना आजमी सन्मार्ग संवाददाता नई दिल्ली : खेला होबे स्लोगन पश्चिम आगे पढ़ें »

ऊपर