आनंदपुर फायरिंग : पुराना दबदबा कायम करने के लिए हुआ गैंगवार

दीपक रतन मिश्रा, कोलकाता : आनंदपुर के गुलशन कॉलोनी में अपने दबदबे को कायम करने के लिए दो गुटों के बीच हुए विवाद ने गैंग वार का रूप ले लिया। इस गैंगवार की पृष्ट‌भूमि भी बहुत ही फिल्मी है। हालांकि इस फिल्मी कहानी में दोनों ही विलेन है। पुलिस सूत्रों के अनुसार शुक्रवार की शाम जुलकर अली नैन वर्षों पुराने अपने दबदबे को कायम करने के लिए एक मकान को दखल करने के लिए पहुंचा। उक्त मकान पहले से ही मिनी फिरोज के कब्जे में था। जुलकर के साथ अधिक लोगों को देख मिनी फिरौज के साथी संभवत: डर गए और उन्होंने जुलकर और उसके साथियों को देख मकान की छत से फायरिंग चालू कर दी। फायरिंग में भजन भक्त और शौकत अली नामक दो लोग घायल हो गए। यहां उल्लेखनीय है कि पिछले डेढ़ साल से गुलशन कॉलोनी में निर्माण पर रोक लगा हुए है। आए दिन प्रमोटिंग व सि‌ंड‌िकेट को लेकर होने वाले विवाद के कारण प्रशासन की ओर से निर्माण कार्य पर रोक लगाया हुआ है।
आखिर क्यों मकान पर कब्जा चाहता था जुलकर
पुलिस व स्थानीय सूत्रों के अनुसार वर्षों पहले जुलकर अली नैन का गुलशन कॉलोनी में वर्चस्व था। गुलशन कॉलोनी में अधिकतर मकान की प्रमोटिंग की उसने की थी। वर्ष 2012 से पहले तक उसने दर्जनों मकान गुलशन कॉलोनी में बनाए थे। उस वक्त वह गुलशन कॉलोनी में राज करता था। उसे पॉलिटीकल सपोर्ट भी मिलता था जिसके कारण उसने अपना दबदबा कायम कर रखा था। सूत्रों के अनुसार वर्ष 2012 में उसका वर्चस्व घटने लगा और फिर अचानक बिहार चला गया। ऐसे में उसके द्वारा बनाए गए कई मकान अधूरे रह गए। जुलकर के अचानक बिहार चले जाने पर उसके अधूरे पड़े प्रोजेक्ट पर मिनी फिरोज की नजर गयी। पुलिस व स्थानीय सूत्रों के अनुसार मिनी फिरोज ने अपने दल-बल के साथ जुलकर के अधूरे प्रोजेक्ट पर कब्जा जमाना चालू कर दिया। फिरोज ने जिन मकानों पर कब्जा जमाया उनमें गुलशन कॉलोनी स्थित एल-14 स्थित मकान भी है। इसी मकान पर कब्जे को लेकर शुक्रवार की शाम फायरिंग की घटना घटी थी। स्थानीय सूत्रों के अनुसार जुलकर ने उक्त मकान को चार मंजिला बनाया था। वहीं मिनी फिरोज ने कब्जा करने के बाद उसे 5 मंजिला बना लिया था। मिनी फिरोज ने पॉलिटीकल सपोर्ट के माध्यम से अपना वर्चस्व कायम कर लिया था। इसके साथ ही वह अपने साथियों के साथ पूरे इलाके में सि‌ंडिकेट राज चलाने लगा। इस बीच वर्ष 2018 में जुलकर दोबारा बिहार से कोलकाता चला आया। कोलकाता लौटने के बाद वह अपने पूराने प्रोजेक्ट को पूरा करने लगा। इस बीच जब वह एल-14 मकान में पहुंचा तो पाया कि उसपर फिरोज ने कब्जा कर लिया। सूत्रों के अनुसार बीते कई महीनों से जुलकर उस मकान पर कब्जा करना चाहता था लेकिन कामयाब नहीं हो रहा था। इस बीच शुक्रवार क शाम वह अपने दल बल के साथ मकान पर कब्जा करनने पहुंचा तो वहां मौजूद फिरोज के साथियों ने उन्हें लक्ष्य कर फायरिंग कर दी। इस घटना को लेकर मिनी फिरोज के परिजनों ने जुलकर और उसके साथियों के खिलाफ हमला और तोड़फोड़ की शिकायत दर्ज करायी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद है उड़द दाल

दालों को प्रोटीन का अच्छा सोर्स माना जाता है। दाल सेहत के लिए बहुत फायदेमंद मानी जाती है। दालों के सेवन से शरीर में प्रोटीन आगे पढ़ें »

वॉट्सऐप : 8 फरवरी को नहीं होगा किसी का अकाउंट डिलीट, चौतरफा हो रही आलोचना से एक कदम पीछे हटी कंपनी

कोलकाता : वॉट्सऐप ने बीते दिनों अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट कर लोगों को इसे एक्सेप्ट करने के लिए 8 फरवरी की डेडलाइन दी थी। आगे पढ़ें »

ऊपर