शहीद रैली में सभी कर्मी करें कोविड प्रॉटोकॉल का पालन : अभिषेक

कहा, उम्मीद से अधिक से आये है कर्मी
उत्तीर्ण, कम्युनिटी हॉल में अलग से बनाया गया अस्थायी कैंप
सन्मार्ग संवाददाता
काेलकाता : दो साल बाद आयोजित हो रही तृणमूल की शहीद रैली इस बार रिकॉर्ड बनाने वाली है। रैली स्थल की अंतिम तैयारियों का जायजा लेने आये पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बंद्योपाध्याय ने यह दावा किया है। अभिषेक ने कहा कि इस बार उम्मीद से अधिक कर्मी आ गये है। शाम 4 बजे तक करीब 75 हजार कर्मियों के ठहरने का इंतजाम कराया गया है। देर रात तक आने वाले बाकी के कर्मियों के लिए भी ठहरने का इंतजाम कराया गया है जिनके लिए अस्थायी कैंप बनाए गये।
कोविड प्रॉटोकॉल का पालन करें कर्मी
अभिषेक लगातार दो दिनों से सभास्थल का जायजा ले रहे है। उन्होंने कहा कि दो साल बाद रैली होने का उत्साह सभी में दिख रहा है लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि कोविड के नियम भी है। सभी से अपील है कि कोविड प्रॉटोकॉल का पालन करें। पार्टी की ओर से भी मास्क, सेनिटाइज की व्यवस्था करायी गयी है।
जल्दबाजी में उत्तीर्ण, कम्युनिटी हॉल बने अस्थायी कैंप
अभिषेक ने कहा कि सिर्फ पुरुलिया से करीब साढ़े 4 हजार कर्मी आ चुके है। इसके अलावा बांकुड़ा, झाड़ग्राम उधर अलीपुरदुआर, उत्तर व दक्षिण दिनाजपुर, कूचबिहार, धूपगुड़ी, जलपाईगुड़ी से भी भारी संख्या में कर्मी बुधवार की शाम तक कोलकाता पहुंच गये थे। कर्मियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए उत्तीर्ण में अस्थाई कैंप बना। साथ ही कोलकाता नगर निगम के कुछ कम्युनिटी हॉल को भी अस्थाई कैंप बनाया गया।
ब्रिगेड में रैली नहीं होने का अफसोस
अभिषेक ने कहा कि रिकॉर्ड भीड़ होनी तय है। 2019 में ब्रिगेड में जब सभा हुई थी तब रिकॉर्ड भीड़ हुई थी। इस बार का अफसोस है कि आज की शहीर रैली ब्रिगेड में नहीं हो पायी। भीड़ को देखते हुए अलग से हेल्थ कैंप की व्यवस्था की गयी है। खाना बनाने वाली जगह में सीसीटीवी कैमरे लगाये गये ताकि किसी घटना-दुर्घटना की जानकारी ली जा सकें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शिंदे-फडणवीस सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार कल

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र में कैबिनेट विस्तार की चर्चा के बीच एक बेहद अहम जानकारी मिली है। सूत्रों के हवाले पता चला है कि एकनाथ शिंदे आगे पढ़ें »

ऊपर