कृषि बिल ने सर्वनाश किया, कालाबाजारी बढ़ी: ममता

बांकुड़ा : आलू, प्याज समेत बाकी सामानों की आसमान छूती कीमतों के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्रीय कृषि बिल को जिम्मेदार ठहराया है। मंगलवार को बांकुड़ा में प्रशासनिक बैठक के दौरान ममता ने केंद्र पर निशाना साधा तथा कहा कि इस बिल ने सब सर्वनाश कर दिया है। इस बिल के कारण कालाबाजारी बढ़ेगी। आम जनता को परेशानी होगी इसलिए पीएम नरेंद्र मोदी को इस समस्या के निदान के लिए हस्तक्षेप करना चाहिए। ममता ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि केन्द्र सुनिश्चित करे कि इन चीजों की कालाबाजारी ना हो और राज्यों को इन समस्याओं से निपटने के लिए आवश्यक अधिकार दिए जाएं।
केन्द्र सरकार ने विनाशकारी कृषि कानून बनाए हैं

प्रशासनिक बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, ‘केन्द्र सरकार ने विनाशकारी कृषि कानून बनाए हैं, जिनके कारण आलू, प्याज जैसी जरूरी चीजों की कालाबाजारी हो रही है।’ ममता ने कहा कि पहले राज्य सरकार इन जरूरी चीजों की कीमतों पर नियंत्रण रखती थी, लेकिन केन्द्र के कानूनों ने राज्यों से यह अधिकार छीन लिया है। इससे किसानों और ग्राहकों को नुकसान हो रहा है। केन्द्र सरकार पर इन कानूनों के जरिए किसानों से सब कुछ लूटने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आलू के दाम में चिंताजनक बढ़ोतरी हो रही है। उन्होंने कहा कि आवश्यक वस्तुओं की सूची में शामिल रहे आलू, प्याज जैसी चीजों की कीमतों में बढ़ोतरी के लिए राज्य सरकार को दोष नहीं दिया जाना चाहिए। कृषक बंधु योजना को केंद्र कर ममता ने कहा कि पहले राज्य सरकार किसानों से चावल खरीदती थी, लेकिन केंद्र सरकार के नए कृषि कानून से सबका सर्वनाश होगा। अब तक राज्य सरकार कोल्ड स्टोरेज पर निगरानी रखकर आलू के दाम पर नियंत्रण रखती आ रही थी। इससे किसान, उपभोक्ता सभी को लाभ होता था, लेकिन अब सिर्फ समस्या और कालाबाजारी हो रही है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

रविवार को करे ये काम, सफलता होगी साथ

नई दिल्ली : ज्योतिष के मानें तो रविवार को सुबह-सुबह इस उपाय को करने से पूरे सप्ताह सफलता अपके कदम चूमेगी। ऐसी मान्यता है कि आगे पढ़ें »

सबसे अधिक मतदाता संख्या वृद्धि में अव्वल द‌क्षिण 24 परगना

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः मतदाताओं की संख्या में वृद्धि के मामले में दक्षिण 24 परगना अव्वल है। आंकड़े यही दर्शाते हैं। चुनाव आयोग के अनुसार जिले में आगे पढ़ें »

ऊपर