बंगाल में ‘दीदी के बोलो’ कैंपेन के बाद ‘ममता मेरा गर्व’ ऑनलाइन अभियान शुरू

Campaign in Bengal,

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी और उनकी सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल  विधानसभा चुनाव 2021 को लेकर जोर शोर से तैयारी में जुट चुकी है। दरअसल, 2019 लोकसभा चुनाव में तृणमूल को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर से करारा जवाब मिला था। साथ ही बंगाल में भाजपा की उभरती ताकत देख तृणमूल ने प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए अभी से अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। प्रदेश में पार्टी की ओर से तरह-तरह के अभियान चलाए जा रहे हैं। पार्टी ने शुक्रवार को एक ऑनलाइन कैंपेन की शुरुआत की जिसका नाम अमार गोर्बो ममता यानी (ममता मेरा गर्व) है। इस अभियान के तहत ममता के प्रति लोगों की भावना जानने की कोशिश की जा रही है। मालूम हो कि इससे पहले पार्टी की ओर से सोमवार को ‘दीदी के बोलो’ यानी ‘दीदी से बात करो’ कैंपेन की शुरूआत की गई थी।

सोशल मीडिया के जरिए ममता की उपलब्धियों का ब्योरा

तृणमूल पार्टी की इस अभियान को सोशल मीडिया के जरिए ममता के प्रति लोगों की भावना तथा उनकी उपलब्धियों की बताने की कोशिश कर रही है। साथ ही पार्टी की ओर से अमार गोर्बो ममता यानी ममता मेरा गर्व को ट्विटर और हैशटैग पर जारी किया गया है। बंगाल में ममता के पिछले आठ साल में किये गए कामों का ब्योरा सोशल मी‌डिया के उपभाेक्ताओं से देने की अपील की गयी है। उनसे कहा गया है कि ममता पर गर्व करने की वजह बतायें।

हेल्पलाइन नंबर और वेबसाइट जारी किया गया

तृणमूल के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि अमार गोर्बो अभियान के जरिए ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लोग ममता बनर्जी पर गर्व को लेकर अपने मन की बात साझा कर सकते हैं। हम सभी को दीदी पर गर्व है और अब हम दूसरों का अनुभव जानना चाहते हैं और उसे सोशल मीडिया पर साझा करना चाहते हैं। बता दें कि हालही में सत्तारूढ़ पार्टी की ओर से प्रदेश में दीदी के बोलो अभियान चलाया जा रहा था। जिसमें लोगों को परेशानियों से निजात दिलाने के लिए पार्टी की ओर से एक हेल्पलाइन नंबर 9137091370 और एक वेबसाइट www.didikebolo.com जारी किया गया ‌है। साथ ही कहा गया है कि लोगों की समस्या का निदान स्वंय मुख्यमंत्री ममता बनर्जी करेंगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मधुमेह के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार

हमारी बिगड़ती जीवनशैली के कारण हमारा शरीर कई बीमारियों का घर बन गया है। इन्हीं बीमारियों में से एक है डाइबिटीज़ यानी मधुमेह। डाइबिटीज़ भले आगे पढ़ें »

चेहरे के कई हिस्सों में होते हैं वाइटहेड्स, जानिए क्या है कारण

नई दिल्ली : चेहरे के वाइटहेड्स बहुत खराब लगते हैं। ये चेहरे के किसी भी हिस्से पर हो सकते हैं। आम तौर पर लोग वाइटहेड्स आगे पढ़ें »

ऊपर