के. के. के निधन के बाद होश में आया प्रशासन

नजरूल मंच में हुआ फेस्ट, आधे दर्शकों को दी गयी एंट्री
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : मशहूर सिंगर के. के. का निधन गत मंगलवार को नजरूल मंच में कांसर्ट के बाद हो गया जिसे लेकर कई सवाल उठ रहे थे। आरोप लग रहे थे कि प्रशासन की अव्यवस्था के कारण ऐसा हुआ क्योंकि ऑडिटोरियम हॉल में क्षमता 2482 लोगों की है जबकि उस दिन लगभग 7000 लाेगों को एंट्री दे दी गयी थी। इस कारण भीड़ काफी अधिक हो जाने से गर्मी बढ़ गयी थी। कांसर्ट के दौरान ही के. के. असहज हो उठे थे और किसी तरह कांसर्ट खत्म कर वह होटल में गये। हालांकि होटल में जाते ही उनकी तबीयत अधिक बिगड़ गयी और अस्पताल में ले जाने पर उनका निधन हो गया। के. के. के निधन के बाद अब लगता है कि प्रशासन को होश आया है। के. के. के निधन के 3 दिनों के बाद ही शुक्रवार को कलकत्ता इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड मैनेजमेंट (सीआईईएम) कॉलेज का फेस्ट नजरूल मंच में था। अनुपम रॉय एण्ड बैंड ने इस फेस्ट में प्रस्तुति दी। इस दिन फेस्ट के लिए प्रशासन की ओर से सुरक्षा के तमाम इंतजाम किये गये थे और इस पर भी पूरी निगरानी रखी गयी कि भीड़ ना हो। पुलिस व प्रशासन ने पूरी गाइडलाइन के तहत इस दिन फेस्ट का आयोजन करवाया।
आधे दर्शकों को दी गयी एंट्री
इस दिन नजरूल मंच में क्षमता यानी 2482 लोगों की तुलना में आधे दर्शकों को ही एंट्री दी गयी। विश्वसनीय सूत्र बताते हैं कि कुल 1500 पासेस इस दिन कॉलेज फेस्ट के लिए जारी किये गये थे। कॉलेज की ओर से ही एंट्री पास जारी किये गये थे। एंट्री गेट पर ही पास चेक किये जा रहे थे और इसके बाद ही अंदर जाने की अनुमति दी जा रही थी। नजरूल मंच में कुल 7 गेट हैं, लेकिन केवल 2 गेट ही फेस्ट के लिए खोले गये थे। प्लास्टिक के बाेतल भी अंदर ले जाने की अनुमति नहीं थी, उन्हें बाहर ही रख दिया जा रहा था।
हर गेट पर तैनात थी पुलिस
नजरूल मंच के हर गेट पर पुलिस की तैनाती की गयी थी। प्रत्येक गेट पर 4-5 पुलिस कर्मी तैनात किये गये थे। नजरूल मंच के पास वाहनों की पार्किंग की अनुमति भी नहीं दी जा रही थी। इसके अलावा आयोजकों की ओर से बाउंसर्स की तैनाती की गयी थी जो हर स्थिति को संभालने के लिए तैयार थे।
रखे गये थे 2 एम्बुलेंस व डॉक्टर
इस दिन नजरूल मंच के गेट के पास ही 2 एम्बुलेंस भी रखे गये थे जो किसी प्रकार की आपदा में काम आ सके। इसके अलावा डॉक्टर की भी मौजूदगी इस दिन थी।
क्या कहा फेस्ट में आये स्टूडेंट्स ने
फेस्ट में आयी अनिका रॉय ने कहा कि के. के. के निधन से पूरा कोलकाता शर्मसार है। हालांकि इस बार व्यवस्था ठीक से की गयी है। अब बस यही उम्मीद है कि आगे इस तरह के किसी हादसे का गवाह कोलकाता नहीं बनेगा। इसी तरह ऋषभ सिंह ने कहा कि काफी दु:ख हुआ था के. के. को लेकर हुए हादसे के बारे में जानकर। हालांकि अब प्रशासन ने इस हादसे से सबक सीख लिया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

फायर ब्रिगेड में नियुक्तियों पर हाई कोर्ट का स्टे

कोलकाता : हाई कोर्ट के जस्टिस हरीश टंडन और जस्टिस शंपापाल दत्त के डिविजन बेंच ने फायर ब्रिगेड विभाग में 15 सौ नियुक्तियों पर अगले आगे पढ़ें »

ऊपर