आत्मनिष्ठा लक्ष्य है : स्वामी विशोकानन्द भारती

कोलकाता : निर्वाण पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी विशोकानंद भारती महाराज ने गीता के द्वितीय अध्याय पर प्रवचन से श्रद्धालु भक्तों को भाव विभोर करते हुए कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को हस्तिनापुर एवं सांसारिक बंधन से मुक्त कर आत्मनिष्ठा में स्थिर किया। श्रीकृष्ण ने अर्जुन को कहा कि अंतिम पूर्णाहुति के रूप में आत्मनिष्ठा मेरा भी लक्ष्य है। स्वामी विशोकानंद महाराज ने कहा कि सामाजिक व्यवहार में हित शब्द प्रयोग में लिया जाता है, हित से मनुष्य सांसारिक बंधन में बंधता है। सत्संग भवन के ट्रस्टी पंडित लक्ष्मीकान्त तिवारी, दीपक मिश्रा, मुकेश शर्मा ने सत्संग भवन, मालापाड़ा में 13 जनवरी तक प्रतिदिन गीता के द्वितीय अध्याय पर प्रवचन में उपस्थित रहने का निवेदन श्रद्धालु भक्तों से किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राजीव हमेशा जनता के साथ थे, मेरा समर्थन उनके साथ रहेगा : रुद्रनील

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राजीव बनर्जी के इस्तीफे को लेकर तृणमूल नेता रुद्रनील घोष ने कहा कि वह हमेशा से ही जनता के साथ खड़े रहे आगे पढ़ें »

सड़क दुर्घटना में युवा पत्रकार की मौत

कोलकाता : महानगर में देर रात हुई सड़क दुर्घटना में एक युवा पत्रकार की मौत हो गई। लेक थाने के अंतर्गत लॉर्ड्स मोड़ के निकट आगे पढ़ें »

ऊपर