शीतलकूची में जाने से 3 दिन रोक सकते हैं, लोगों के मन से नहीं – अभिषेक

कोलकाता : शीतलकुची की घटना को लेकर युवा के अध्यक्ष व सांसद अभिषेक बनर्जी ने भाजपा व चुनाव आयोग पर जमकर निशाना साधा। तृणमूल सांसद ने इस दिन ट्वीट किया, नरेंद्र मोदी और अमित शाह के प्रति चुनाव आयोग का दासत्व बहुत ही नीचे स्तर तक चला गया है। सत्ता पाने की लालच में भाजपा अंधी हो गयी है। उन्होंने रविवार को मीनाखां व चाकदह की सभा से कहा, ममता बनर्जी को कूचबिहार नहीं जाने दिया गया, क्यों इतना डर है, वे तो राज्य की सीएम के तौर पर जा रही थी, पार्टी प्रमुख के हिसाब से नहीं, मैं पूछता हूं कि क्यों उन्हें रोका गया? आप कूचबिहार जाने से 3 दिन रोक सकते हैं लेकिन बंगाल की जनता के दिलों से नहीं निकाल सकते हैं। एक महिला को अटकाने के लिए चारों तरफ से घेरा जा रहा है। आप एक दिन, दो दिन, चार दिन रोक सकते हैं। लेकिन लोगों के मन से नहीं।
क्या हाेम मिनिस्टर के कहने पर फायरिंग हुई? या फिर दिलीप काे पद से हटाये
सांसद अभिषेक बनर्जी ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के शीतलकूची पर बरानगर में किये मंतव्य पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता कह रहे हैं कि शीतलकुची जैसी फायरिंग और हो सकती है तो क्या होम मिनिस्टर के निर्देश पर फायरिंग हुई ? अगर नरेंद्र मोदी और अमित शाह में जरा भी मानवता है तो दिलीप घोष को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाये। अगर आप उन्हें पद से नहीं हटाते हैं तो हमलोग मान लेंगे कि शीतलकुची की घटना में आपलोगों का ही हाथ है। सांसद ने कहा कि किसने इशारे पर कूचबिहार में गोली चली है, यह पता लगाकर रहेंगे। तीसरी बार तृणमूल कांग्रेस सत्ता में आने के बाद इसका पता लगायेगी। इसका अंत हम देखकर रहेंगे। एक ईच भी जमीन नहीं छोड़ने वाले हैं। वहां के एसपी को चुनाव आयोग ने बदला था। डीजीपी को भी चुनाव आयोग ने ही बदला था। ऐसे में शांतिपूर्ण चुनाव कराना चुनाव आयोग का दायित्व है। उन्होंने कहा कि चाहे जितना भी बड़ा नेता हो, जांच होगी। हमलोग इसका अंत देखेंगे।
अभिषेक ने उठाये कई सवाल
4 लोगों की हत्या हुई और केंदीय वाहिनी और चुनाव आयोग की तरफ से बोला जा रहा है कि आत्मरक्षा के लिए गोली चलायी गयी है। कैमरा में जो दिख रहा है वह कुछ और ही। एक के हाथ में लाठी नहीं थी। अगर घेरा गया था तो पहले टियर गैस छोड़ना चाहिए, हाथ पैर में गोली चलाना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसके इशारे पर गोली चली थी यह तो हमलोग पता लगाकर ही रहेंगे।
नेताई, नंदीग्राम के बाद कूचबिहार में हुई गणहत्या
चौथे चरण के चुनाव के दौरान कूचबिहार में मर्मांतिक घटना घटी है। इसकी जितनी निंदा की जाये कम है। नेताई नंदीग्राम के बाद ऐसी घटना। चार लोगों के खून से शीलतकुची की जमीन खून से रंग गया। केंद्रीय वाहिनी ने चारों लोगों की हत्या की है और यह हत्या किसके इशारे पर हुई है। जाे मारे गये उनका क्या दोष था, वे गरीब थे और लाइन में खड़े होकर वोट दे रहे थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

देश में कोरोना महामारी आउट ऑफ कंट्रोल

नई दिल्ली : भारत में कोरोना महामारी का भयावह कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है l पिछले तीन दिनों से लगातार 4 लाख आगे पढ़ें »

वैक्सीन जीएसटी पर राहुल गांधी का वार : जनता के प्राण जाए, पर प्रधानमंत्री की टैक्स वसूली ना जाए

नई दिल्ली : कोरोना वैक्सीन की कीमतों के बाद अब उस पर लगने वाले टैक्स को लेकर हंगामा शुरू हो गया है l शुक्रवार को आगे पढ़ें »

ऊपर