साल भर पहले जालसाजी के मामले में देवांजन ने दिया था पुलिस को चकमा

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कसबा में नकली वैक्सीनेशन कैम्प चलाने के मामले में फर्जी आईएएस देवांजन देव को कुछ दिनों पहले गिरफ्तार किया गया था। अब इस मामले में आये दिन नये खुलासे हो रहे हैं। देवांजन के मामले में एक नया खुलासा हुआ है कि साल भर पहले भी देवांजन पुलिस को चकमा दे चुका है। इसके अलावा नकली आईएएस के तौर पर उसने छापेमारी भी की थी।
मार्च 2020 में हुई थी देवांजन से पूछताछ
पुलिस के अनुसार, गत वर्ष मार्च महीने में विधाननगर पुलिस कमिश्नरेट के इलेक्ट्रॉनिक्स कॉम्प्लेक्स थाने में नौकरी दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी की मौखिक शिकायत की गयी थी। इस मामले में पुलिस ने देवांजन से पूछताछ भी की थी। उस समय ही देवांजन के परिवार को पता चल गया था कि वह आईएएस अधिकारी नहीं है। इस बारे में एक पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘देवांजन के खिलाफ नौकरी दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी की कोशिश की मौखिक शिकायत की गयी थी। इस मामले में इलेक्ट्रॉनिक्स कॉम्प्लेक्स थाने की पुलिस ने उससे पूछताछ भी की थी।’
कसबा में 65,000 रु. के किराये पर लिया था कमरा
इस बीच, पूछताछ में पता चला है कि देवांजन ने गत वर्ष सितम्बर और अक्टूबर महीने के बीच कसबा इलाके में एक कमरा किराये पर लिया था। इस कमरे का इस्तेमाल वह कार्यालय के तौर पर करने लगा था। देवांजन ने पुलिस को बताया कि वह प्रति महीने 65,000 रु. कमरे का किराया देता था।
नकली आईएएस ने की थी छापेमारी
फर्जी आईएएस देवांजन ने ‘आईएएस अधिकारी’ बनकर छापेमारी की थी और उसकी तस्वीरों के साथ ये खबर कुछ अखबारों में प्रकाशित हुई थी।
देवांजन के घर पर की गयी छापेमारी
कोलकाता पुलिस की खुफिया विभाग की टीम ने आनंदपुर में देवांजन के घर पर छापेमारी की और सरकारी कार्यालय के विभिन्न विभागों के कई स्टैम्प व अन्य दस्तावेज जब्त किये गये हैं। पुलिस ने कहा, ‘देवांजन के पिता को कोरोना होने के कारण वह फिलहाल क्वारंटाइन में हैं। हमने कई नकली दस्तावेज और स्टैम्प जब्त किये हैं जिनमें राज्य सरकार के विभिन्न विभागों का लोगो भी है। तीन डेबिट कार्ड और बैंक पासबुक भी जब्त किये गये हैं।’
गौरतलब है कि देब को कुछ दिन पहले स्वयं को कोलकाता नगर निगम के संयुक्त आयुक्त के रूप में पेश करने और कसबा इलाके में एक फर्जी टीकाकरण शिविर संचालित करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, जहां अभिनेत्री और तृणमूल कांग्रेस सांसद मिमी चक्रवर्ती ने भी टीका लगवाया था। उसके तीन सहयोगियों को शनिवार को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने उनके खिलाफ आईपीसी की अन्य धाराओं के साथ हत्या के प्रयास के आरोप को लेकर भी मामला दर्ज किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

दोनों हाथ में पिस्तौल लेकर फेसबुक पर तस्वीर किया पोस्ट, पहुंचा हवालात

वाट्स ऐप ग्रुप बनाकर हथियारों की खरीद फरोख्त करता था अभियुक्त सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : दोनों हाथ में पिस्तौल लेकर फेसबुक पर तस्वीर पोस्ट करना एक युवक आगे पढ़ें »

ऊपर