छोटी सी गलती ने होनहार फायर ऑफिसर की जान ले ली

पोस्ता फ्लाईओवर में उद्धार के लिए अनिरुद्ध को किया गया था सम्मानित
कोलकाता : पत्रकारिता को लेकर पढ़ाई की लेकिन उसे सरकारी नौकरी करने की ‌इच्छा थी। इस बीच अनिरुद्ध ने दमकल विभाग में नौकरी चालू कर दी।
नौकरी करते हुए उसे 7 साल होगया। किसी भी तरह की खतरे के समय में वह बड़े अधिकारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करते हैं। हालांकि एक छोटी सी गलती ने उसके पूरे शरीर को झुलसा दिया। लिफ्ट के बाहर ही उसका झुलसा हुआ शरीर मिला था। ढापा के माथपुकुर में अनिरुद्ध अपने परिवार के सदस्यों के साथ रहताहै। कपुछ साल पहले जब पोस्ता फ्लाईओवर गिरा था तब भी अनिरुद्ध ने अपनी जान की बाजी लगाकर कई लोगों की जान बचायी थी। घर में मौजूद एक स्मारक उनके कार्य का प्रमाण देती है। हालांकि सोमवार की शाम एक गलती ने उनकी जीवन ले ली। अन‌िरुद्ध के सहकर्मियों ने बताया कि हो सकता है कि अनिरुद्ध ने लिफ्ट में उठने की कोशिश की। वहां पर ही आग की लपटों ने उसे अपनी चपेट में ले लिया। वहीं हादसे में मरनेवाले दमकल कर्मी गौरव बेज भी बहुत साहसी था। कुछ दिनों पहले घर की छत पर एक पक्षी को घायल अवस्था में पड़ा देख उसे उद्धार कर उसे ठीक किया। पक्षी को स्वस्थ रखने के बाद उसे घर में ही रख दिया गया था। गौरव की मौत के बाद उक्त पक्षी घर में चुपचाप पड़ा है। मंगलवार की सुबह उसने कुछ खाया भी नहीं है। अन्य दिनों की तरह सोमवार को भी गौरव ऑफिस गयेथे। 2 साल पहले ही गौरव के पिता ने गरफा के फ्लैट खरीदा था। उओमप्रकाश बेज ने इस साल अपने दोनों बेटे की सादी करने की बात सोची थी। सोमवार को उनकी खुशियों का ग्रहण लग गया। वर्ष 2016 में गौरव ने नौकरी ज्वाइन किया था। दोनों ही हमेशा टिपटॉप रहना पसंद करते थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

90 ड्राइवरों व गार्ड के संक्रमित होने के बाद लोकल ट्रेनों का संचालन प्रभावित

कोलकाता : पूर्व रेलवे ने मंगलवार को कहा कि 90 ड्राइवरों और गार्ड के कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद उसने अभी तक सियालदह आगे पढ़ें »

ब्रेकिंगः नरेंद्र मोदी के संबोधन से जुड़ी हर बात यहां

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री ने देश के नाम पर संबोधन शुरू कर दिया है। आइए जानते हैं संबोधन की मुख्य बातें। मोदी ने कहा, ‘साथियो! अपनी आगे पढ़ें »

ऊपर