‘पश्चिम बंगाल चुनाव प्रचार में जुटे नेताओं को करें होम क्वारंटाइन’

नई दिल्लीः दिल्ली उच्च न्यायालय में मंगलवार को एक अर्जी दायर कर निर्वाचन आयोग को निर्देश देने का अनुरोध किया गया है कि वह पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के दौरान कथित तौर पर कोविड-19 नियमों के उल्लंघन को लेकर स्टार प्रचारकों और सभी राजनीतिक दलों के नेताओं पर जुर्माना लगाने और एफआईआर करने जैसी कार्रवाई करे। उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक और थिंक टैंक सेंटर फॉर अकाउंटेबिलिटी एंड सिस्टमैटिक चेंज (सीएएससी) के अध्यक्ष विक्रम सिंह ने इस आवेदन में केंद्र और निर्वाचन आयोग को उन सभी लोगों का घर पर अनिवार्य पृथकवास सुनिश्चित कराने का निर्देश देने की मांग की है जिन्होंने पिछले एक हफ्ते में पश्चिम बंगाल में प्रचार किया हो। पूर्व पुलिस महानिदेशक विक्रम सिंह की तरफ से अधिवक्ता विराग गुप्ता ने पिछली माह चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया था। गुप्ता अनमास्किंग वीआईपी किताब के लेखक भी है। इस किताब में उन्होंने कोरोना काल में कानून के दोहरे रवैये को प्रमाण सहित दर्शाया है।

अधिवक्ता गुप्ता ने कहा कि सिंह ने इस आवेदन में दावा किया है कि राजनीतिक दलों, उनके नेताओं और प्रचारकों द्वारा महामारी के दौरान रैलियों, जनसभाओं और रोड शो में मास्क पहनने के नियम का उल्लंघन किया उन पर सख्ती से कार्रवाई की जाए। कुछ दिनों पहले ही चुनाव आयोग को इस मामले में एक कानूनी नोटिस भी भेजा गया था। इसके बाद दिल्ली उच्च न्यायालय ने केंद्रीय गृह मंत्रालय और चुनाव आयोग को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ब्रेकिंगः कल सीएम ममता के नए मंत्री लेंगे शपथ, लिस्ट में इनके नाम शामिल

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में भारी बहुमत के साथ सत्ता पर काबिज़ होने के बाद 5 मई को ममता बनर्जी ने तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ आगे पढ़ें »

बेहला गुरुद्वारा में ऑक्सीजन लंगर चालू

कोलकाता : राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। बाजार में ऑक्सीजन सिलिंडर की किल्लत से आम लोग परेशान है। आगे पढ़ें »

ऊपर