9 साल बाद फिर प्रेसिडेंसी में चला ‘लाल’ का जादू

आईसी हुई छात्र संघ की सत्ता से बेदखल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : प्रेसिडेंसी यूनिवर्सिटी में 2019 के छात्र संघ चुनाव में 9 साल बाद भारी मतों से विजयी हुई सीपीएम की छात्र संगठन एसएफआई। गुरुवार को प्रेसिडेंसी विवि में भारी सुरक्षा के बीच छात्र संघ का चुनाव सपन्न हुआ एवं देर शाम रिजल्ट घोषित हुए। कुल 5 पदों प्रेसिडेंट, वाइस प्रेसिडेंट, जनरल सेक्रेटरी, असिस्टेंट जनरल सेक्रेटरी एवं जीसीआर सेक्रेटरी पर एसएफआई चुनाव लड़ रही रही थी जिसमें पांचों पर ही जीत दर्ज कर आईसी को सत्ता से बेदखल कर दिया। इस दिन तकरीबन 1950 छात्रों ने मतदान किया। 2010 के बाद पहली बार एसएफआई ने यह जीत अपने नाम की है। उल्लेखनीय है इसके पहले वर्ष 2010 में अंतिम बार एसएफआई सत्ता में आयी थी जिसके बाद लगातार 2017 तक आईसी का राज चला फिर 3 साल तक विभिन्न कारणों से छात्र संघ के चुनाव नहीं हुए। 9 वर्षों बाद नतीजों में भारी उलटफेर करते हुए एसएफअाई सत्ता में आ गयी। वहीं कॉलेज रिप्रेजेंटेटिव(सीआर) में भी एसएफआई सबसे आगे रही।
जीसीआर सेक्रेटरी के पद पर आईसी की अपराजिता घोष (307) को पछाड़ते हुए एसएफआई की श्रुति रॉय मुहुरी ने 411 वोटों से जीत हासिल की। प्रेसिडेंट के पद के लिए मिमोशा घोराई 1085 वोट पाकर आईसी के इमोन सोरेन(613) को हराया। वहीं वाइस प्रेसिडेंट के पद पर भी 999 वोट के साथ मोल्लाह रोहन हसन ( 640) को हराकर एसएफआई की अंकिता मुखर्जी ने जीत दर्ज की। जनरल सेक्रेटरी के पद पर एसएफआई के सोरेन मल्लिक ने 840 वोट पाकर अहन कर्मकार (574) को पछाड़ा। एसिसटेंट जनरल सेक्रेटरी के पद पर एसएफआई के दीपराजित देवनाथ ने 919 वोट पाकर, अनुभव विश्वास (642) को पछाड़ा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बिग बॉस 13 से बाहर होंगे सिद्धार्थ शुक्ला,जानकर दुखी हुए फैन

मुंबई : टीवी रिएलिटी शो बिग बॉस का सीजन 13 कई मायनों में सुपरहिट साबित हो रहा है और रोजाना कोई ना कोई नया विवाद आगे पढ़ें »

टाला ब्रिज पुनर्निमाण के लिए बस रूट डायवर्जन पर मालिकों ने मांगी सब्सिडी

कोलकाता : दरारें और संरचना में खामियां नजर आने के बाद टाला ब्रिज से बसों का परिचालन बंद है। अब बस और मिनी बस मालिकों आगे पढ़ें »

ऊपर