कोरोना काल में हुईं 4 लाख शादियां, 30 हजार करोड़ का हुआ व्यवसाय

कोलकाता : 2021 में कम मुहूर्त के बावजूद काफी शहनाइयां बजीं। यह साल न केवल कोविड काल रहा बल्कि इस साल शहनाइयां भी खूब बजीं। यूं कहा जा सकता है कि यह साल शादियों का साल रहा। कारोना काल में लगभग 4 लाख लोग शादी के बंधन में बंधे। करीब 1.9 लाख रेजिस्ट्रेशन हुए। इन सभी में राज्य में करीब 30 हजार करोड़ का कारोबार हुआ है। पिछले साल भी करीब साढ़े तीन लाख दूल्हा-दुल्हन ने रजिस्ट्रेशन कराकर शादी की थी और रजिस्ट्री के बाहर भी अनगिनत लोगों ने शादी कर ली है। कुल मिलाकर कोरोना में शादियों की संख्या 4 लाख को पार कर गई है और व्यवसाय का आंकड़ा करीब 30 हजार करोड़ रुपये है। व्यापारियों के अखिल भारतीय संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के अधिकारी सर्वे कर इस तरह की जानकारी दे रहे हैं। उनका दावा है कि शादी के मेहमानों, गहनों, कपड़ों से लेकर हर तरह के खर्चों में तमाम तरह के खर्चे शामिल हैं। क्यों इतने सारे लोग कोरोना की दहशत में शादी करने के लिए बेताब हैं? कल्याणी विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र की शिक्षिका देवद्युति कर्माकर ने कहा, “विवाहों की संख्या में वृद्धि के कई कारण हैं।”
2022 में भी बजेगी खूब शहनाई
इस साल खरमास खत्म होने के बाद शुभ मुहूर्त शुरू हो रहा है। 2022 में शादी-ब्याह के लिए कई शुभ मुहूर्त हैं। जानकारी के मुताबिक साल 2022 में अगस्त, सितंबर और अक्टूबर को छोड़कर हर माह शादी के शुभ मुहूर्त हैं। ऐसे में इस साल भी शादी के लिए कई लगन हैं। वहीं व्यवसाय के दृष्टिकोण से भी माना जा रहा है कि अगर सख्ती ज्यादा नहीं बढ़ी तो इस साल भी शादी से जुड़े व्यवसाय बेहतर रहने की उम्मीद है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कोलकाता में कोविड पॉजिटिविटी रेट घटकर 32.68% पर

कलिम्पोंग में कोविड पॉजि‌टिविटी रेट 36.52% के रूप में सबसे अधिक सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः ओमिक्रॉन वेरिएंट के आने के बाद प्रदेश में कोरोना का ग्राफ काफी बढ़ता आगे पढ़ें »

ऊपर