मेट्रो परियोजना के बजट आवंटन में 38% की वृद्धिः जीएम

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः 2021-2022 के केंद्रीय बजट में, कोलकाता मेट्रो परियोजनाओं के लिए पिछले वर्ष के बजट आवंटन की तुलना में 38 प्रतिशत अधिक आवंटन किया गया है। मेट्रो रेलवे के महाप्रबंधक मनोज जोशी, जो पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक का अतिरिक्त प्रभार भी संभाल रहे हैं, ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी दी। मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए, उन्होंने कहा कि इस वर्ष के बजट में सुरक्षा, यात्री सुविधाओं में सुधार, बुनियादी सुविधाओं के उन्नयन पर जोर दिया गया है। उन्होंने कहा, भविष्य में जरूरतों को पूरा करने के लिए बुनियादी ढांचे का विकास, बढ़ती क्षमता इस साल के बजट की कुछ विशेषताएं हैं।
इस बजट में नोआपाड़ा मेट्रो परियोजना के तहत नोआपाड़ा से बारासात वाया विमानबंदर के लिए 520 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। 2020-2021 के बजट में 204 करोड़ रुपये आवंटित किया गया था। नोआपाड़ा-विमानबंदर खिंचाव (7.04 किमी) को अगले दो वर्षों के भीतर चालू करने की योजना बनाई गई है।
जोका-एस्प्लानेड मेट्रो परियोजना के लिए 2021-2022 के केंद्रीय बजट में 350 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। 2020-2021 के बजट में 99 करोड़ आवंटित थे। जोशी ने कहा कि अगले दो वर्षों के भीतर इस परियोजना के तारतल्ला खंड के माध्यम से जोका-मोमिनपुर मेट्रो कॉरिडोर को चालू करने का लक्ष्य रखा गया है।
उन्होंने कहा कि कवि सुभाष से साइंस सिटी (8.6 किलोमीटर लंबे) तक के फैलाव को कमिशन करने का प्रयास किया जा रहा है। कवि सुभाष से विमानबंदर वाया राजारहाट परियोजना के माध्यम से विमानबंदर तक की परियोजना के बारे में उन्होंने बताया। इस परियोजना में इस वर्ष के बजट में 350 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। वहीं पिछले वर्ष 328 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे। मेट्रो रेलवे के जीएम मनोज जोशी ने बताया कि एस्प्लानेड और सियालदाह (800 मीटर की दूरी) के बीच ईस्ट-वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर परियोजना के टनलिंग कार्य का आखिरी हिस्सा चल रहा है और आवश्यक धनराशि आवंटित की गई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पेट दर्द में कब आती है अस्पताल जाने की नौबत ? बड़ी खतरनाक ये 8 बीमारियां

कोलकाता : पेट दर्द तेज होने पर डॉक्टर के पास जाएं या न जाएं, कई बार ये तय करना बड़ा मुश्किल हो जाता है। इमरजेंसी आगे पढ़ें »

8 को वाममोर्चा कर सकता है उम्मीदवारों की घोषणा

वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच जटिलता लगभग समाप्त कोलकाता : काफी जटिलता के बाद वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच चुनावी समझौता अब अपने अंतिम दौर में है। कांग्रेस और आईएसएफ आगे पढ़ें »

ऊपर