भूस्खलन में उत्तर बंगाल के 2 लाल शहीद

सिलीगुड़ी: मणिपुर के नोनी जिले में जिरीबाम-इंफाल रेलवे लाइन के पास भारी भूस्खलन हुआ हैं। सेना का टेरिटोरियल कैंप भूस्खलन की चपेट में आया हैं। इस घटना में 11 जीआर के 107 बटालियन में कार्यरत बागडोगरा कमल पुर चाय बगान निवासी संजय उड़ाव(31) तथा डुवार्स के नागराकाटा मंगरू पाड़ा खास बस्ती निवासी शंकर छेत्री (30) शहीद हो गये। शुक्रवार को सेना के जरिये दोनों परिवार को जवानों के शहीद होने की सूचना दी गई। खबर सुनने के बाद संजय तथा शंकर का परिवार टूट गया हैं। संभावना है कि शनिवार दोनों का शव उनके घर पहुंचेगा। जहां पुरे सम्मान के साथ उनकी अंतिम क्रिया की जायेगी।
मणिपुर के इंफाल में बारिश के वजह से बुधवार रात को हुए भूस्खलन के बाद से ही लगातार बचाव कार्य चल रहा हैं। सूत्रों की माने तो भूस्खलन की घटना में 72 लोगों के मलवे के नीचे फंसे होने की आशंका हैं। जिसमें सेना के 43 जवान शामिल हैं। शुक्रवार को सेना के 8 जवान के शवों को मलवे से बाहर निकाला गया। जिसमें ये दोनों शामिल थे। शुक्रवार साढ़े 3 बजे के आसपास संजय के परिवार को उसके शहीद होने की खबर मिली।
जानकारी मिली है कि संजय का परिवार चाय श्रमिक हैं। 2017 में संजय खेल कोटा से सेना में शामिल हुआ था। डेढ़ वर्ष पहले संजय की शादी हुई थीं। उसकी पत्नी 6 महीने की गर्भवर्ती हैं। संजय के परिवार में मां-पिता एक बहन तथा पत्नी हैं। पुरा परिवार संजय के आय पर निर्भर था। आज भी संजय का पुरा परिवार चाय बागान के क्वार्टर में रहता हैं।
संजय की पत्नी फूलकुमारी मुंडा ने कहा कि दिसंबर में ही संजय छुट्टियों पर घर आया था। सितंबर में वापस से घर आने की बात थी। उन्होंने बताया कि बुधवार रात को साढ़े 9 बजे फोन पर उन दोनों की बात हुई थीं। उसके बाद उनके कोई बात नहीं हुई। शुक्रवार दोपहर परिवार को पता चला कि घटना में वह शहीद हो चुका हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

स्वतंत्रता दिवस पर महानगर में तैनात रहेंगे 2500 पुलिस कर्मी

रेड रोड में मौजूद रहेंगे 1200 पुलिस कर्मी 6 वॉच टॉवर, 11 बंकर और 3 क्यूआरटी किए गए तैनात 6 ज्वाइंट सीपी, 20 डीसी और 40 एसीपी आगे पढ़ें »

ऊपर