टाटा को लेकर पार्थ का बड़ा बयान

टाटा समूह का बंगाल में स्वागत है : पार्थ
सिंगुर की नाकामी के 13 साल बाद टाटा समूह एक बार फिर निवेश के लिए आ सकता है बंगाल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : सिंगुर में लखटकिया नैनो कार की नाकामी के 13 साल बाद टाटा समूह एक बार फिर बंगाल में निवेश के लिए आ सकता है। इसका इशारा राज्य के उद्योग व आईटी मंत्री पार्थ चटर्जी ने किया। मंत्री ने कहा कि टाटा के साथ बड़े निवेश की बातचीत चल रही है। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी सरकार चाहती है कि किसी भी प्रमुख औद्योगिक घराने द्वारा जल्द से जल्द दो बड़ी विनिर्माण इकाइयां स्थापित की जाएं।
चटर्जी ने कहा, ‘‘टाटा के साथ हमारी कभी कोई दुश्मनी नहीं थी, न ही हमने उनके खिलाफ लड़ाई लड़ी। वे इस देश के सबसे सम्मानित और सबसे बड़े व्यापारिक घरानों में से एक हैं। आप टाटा को (सिंगुर उपद्रव के लिए) दोष नहीं दे सकते।’’
चटर्जी ने बताया, ‘समस्या वाम मोर्चा सरकार और उसकी जबरन भूमि अधिग्रहण नीति के चलते थी। टाटा समूह का हमेशा बंगाल में आने और निवेश करने के लिए स्वागत है।’
चटर्जी ने कहा कि नमक से इस्पात तक बनाने वाले कारोबारी समूह ने कोलकाता में अपने कार्यालयों के लिए एक और टाटा सेंटर स्थापित करने में रुचि दिखाई है। ‘हमारे यहां पहले ही टाटा मेटालिक्स, टीसीएस के अलावा एक टाटा सेंटर है, लेकिन अगर वे विनिर्माण या अन्य क्षेत्रों में बड़े निवेश के साथ आने के इच्छुक हैं, तो कोई समस्या नहीं है। हमारे आईटी सचिव ने हाल में मुझे बताया था कि उन्होंने यहां टाटा सेंटर स्थापित करने में रुचि दिखाई है।’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

संसद में हंगामे को लेकर विपक्ष पर बरसे पीएम मोदी, कहा…

नई दिल्ली : बीजेपी संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी ने संसद में हंगामे को लेकर विपक्ष पर निशाना साधा है। संसद की बैठक आगे पढ़ें »

ऊपर