बड़ाबाजार में पुलिस कर्मी बनकर सराफा व्यवसाई से लूटी 11 किलो चांदी

नारायणपुर से दो नकली पुलिस कर्मी हुए गिरफ्तार
अभियुक्तों के पास से 4.60 किलो चांदी के आभूषण बरामद
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर में दिनदहाड़े खुद को पुलिस कर्मी बताकर अपराधियों ने एक सराफा व्यवसाई का अपहरण कर उससे 11 किलो चांदी के आभूषण लूट लिये। घटना बड़ाबाजार थानांतर्गत एम जी रोड की है। पुलिस ने मामले में दो नकली पुलिस कर्मियों को गिरफ्तार किया है। अभियुक्तों के नाम संजय कुमार साव और फिरोज मंडल हैं। दोनों को पुलिस ने नारायणपुर थाना इलाके से पकड़ा है। उनके पास से एक कार और लूटे गये 4.60 किलो चांदी के आभूषण बरामद किए गए हैं। पुलिस अभियुक्तों से पूछताछ कर मामले में फरार उनके अन्य साथियों की तलाश कर रही है।
क्या है पूरा मामला
पुलिस के अनुसार पश्चिम मिदनापुर जिले के दासपुर के सराफा व्यवसाई समीर मन्ना खरीदारी करने के लिए मंगलवार को दोपहर बड़ाबाजार आए थे। दोपहर में 3 बजे समीर बड़ाबाजार के सोना पट्टी से 11 किलो चांदी के आभूषण लेकर हावड़ा जाने वाली बस में सवार हुए। समीर का आरोप है कि हावड़ा स्टेशन पर उतरते ही कार में सवार 4 लोगों ने उसका रास्ता रोका। अभियुक्तों ने खुद को पुलिस कर्मी बताकर सराफा व्यवसाई को जबरन अपनी कार में बैठाया और उसे लेकर न्यूटाउन के विश्व बांग्ला गेट के पास पहुंचे। आरोप है कि वहां पर समीर से चांदी के आभूषण लूटने के बाद अभियुक्त वहां से फरार हो गए। घटना के बाद व्यवसाई पहले गोलाबाड़ी थाना पहुंचा जहां से उसे शिकायत करने के लिये बड़ाबाजार थाना में भेज दिया गया। व्यवसाई समीर मन्ना की शिकायत पर पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के जरिए कार के मालिक की शिनाख्त कर पहले कार के ड्राइवर संजय साव को नारायणपुर इलाके से गिरफ्तार किया। संजय से पूछताछ के बाद पुलिस ने फिरोज मंडल को भी उसी इलाके से गिरफ्तार किया। पुलिस ने अभियुक्तों के पास से अपहरण में इस्तेमाल कार और लूटे गये 4.60 किलो चांदी के आभूषण बरामद किए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

2 सालों बाद मायापुर इस्कॉन में होगा भव्य रथयात्रा अनुष्ठान

रथों के भव्य चक्के होंगे विशेष आकर्षण 95 देशों से लाखों भक्त होंगे शामिल कोलकाता : कोविड काल के 2 साल बाद नदिया के इस्कॉन मायापुर में आगे पढ़ें »

ऊपर