इसी महीने बंगाल में आ रही डेढ़ करोड़ कोविड की वैक्सीन

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः वो भी एक समय था कि टीकों की अपर्याप्त आपूर्ति के कारण कई जिलों में टीकाकरण बंद हो गया था। हालांकि अब समय बदल गया है। पश्चिम बंगाल समेत विभिन्न राज्यों के लगातार दबाव में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय बेहद लचीला हो गया है। अकेले अक्टूबर में ही यानी कि इसी महीने राज्य में कोविड वैक्सीन की 1.5 करोड़ डोज आने वाली है।
स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक संख्या थोड़ी बढ़ी है, लेकिन हैरानी की बात नहीं है। सिर्फ कोविड वैक्सीन ही नहीं। खसरा, इन्फ्लूएंजा और हेपेटाइटिस सहित पांच बीमारियों से बचाव के लिए बच्चों को दो बूस्टर खुराक दी जाती है। वैक्सीन को पेंटावैलेंट कहा जाता है। सप्तमी की सुबह पेंटावैलेंट वैक्सीन की 6 लाख डोज कोलकाता पहुंची। दोपहर से जमे हुए वाहनों में वैक्सीन को अलग-अलग जिलों में भेजा गया है। एक स्वास्थ्य अधिकारी के मुताबिक, 2015 के बाद यह पहला मौका है, जब इतने बच्चों को एक साथ टीका लगाया गया है। एक शीशी से 10 बच्चों का टीकाकरण संभव है।
महाषष्ठी के दिन शाम को बागबाजार सेंट्रल स्टोर पर कोविशील्ड की 8 लाख डोज आई है। वैक्सीन को कोलकाता समेत पश्चिमी जिलों में भेजा जाएगा। अगले 2-3 दिनों में वैक्सीन की 20 लाख और खुराक पश्चिम बंगाल भेजी जाएगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से भेजे गए संदेश का सार है कि राज्य के वयस्क नागरिकों को जल्द से जल्द कोरोना की दो खुराक के तहत लाना है। विशेष रूप से पूजा से दिसंबर तक, पश्चिमी क्षेत्र के नागरिक विभिन्न त्योहारों और उत्सवों का आनंद लेते हैं। सर्दी के मौसम में एक बार फिर से कोविड संक्रमण के बढ़ने की प्रवृत्ति देखने को मिल रही है। ऐसे में वैक्सीनेशन पर जोर दिया जा रहा है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, लगभग 7 करोड़ 25 लाख लोग ऐसे हैं जो टीकाकरण के लिए पात्र हैं, भले ही उनके पास 10 करोड़ नागरिक हों। इनमें 3 लाख ऐसे नागरिक हैं जिन्होंने पहली खुराक तो ली लेकिन दूसरी खुराक नहीं ली। स्वास्थ्य विभाग इन नागरिकों का पता नहीं लगा पा रहा है। हालांकि फोन से संपर्क किया गया, ज्यादातर मामलों में नंबर बदल गया है, या पता बदल गया है। इसी का नतीजा है कि स्वास्थ्यकर्मी अब इन्हें लेकर ज्यादा चिंतित हैं।
राज्य में टीकाकरण अभियान
कुल वैक्सीनेशन-6,55,10,664
पहली डोज-4,73,87,421
सेकेंड डोज-1,81,23,243
(नोटः आंकड़े कोविन डैश बोर्ड)

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

‘बिग बॉस’ और ‘रोडीज’ का विनर रहा ये शख्स, आज ढाबे पर कट रही है जिंदगी

नई दिल्ली: जिंदगी न जाने कब कौन सा मोड़ ले जाए कहना बड़ा मुश्किल है। कभी ये किसी को अर्श से फर्श पर ले आती आगे पढ़ें »

ऊपर