हुगली नदी में टनेल से गुजरेगी ट्रक ! योजना बना रहा पोर्ट ट्रस्ट

कोलकाताः कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट (केओपीटी) हुगली नदी के नीचे एक टनेल का निर्माण करने के विकल्प की तलाश कर रहा है। नदी के एक छोर से दूसरे छोर तक ट्रकों ले जाने के लिए इस पर विचार किया जा रहा है। यह एक ऐसा कदम है जो कि शहर की सड़कों को ट्रैफिक जाम में निजात व जल्द खराब होने की समस्या को दूर करने में मदद करेगा।
ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर की सफलता से प्रभावित केओपीटी करेगा अध्ययन
ईस्ट-वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर के सुरंग के काम से प्रभावित सीओपीटी, जिसे श्यामा प्रसाद मुखर्जी पोर्ट के रूप में भी जाना जाता है, ने नदी के नीचे एक समान संरचना बनाने के लिए व्यवहार्यता अध्ययन करने के लिए एक सलाहकार नियुक्त करने की योजना बनाई है। पोर्ट के चेयरमैन विनीत कुमार का कहना है कि “यह एक विचार है, क्योंकि मैंने एंटवर्प बंदरगाह (बेल्जियम में) में ऐसी सुरंगें देखी हैं। इसलिए हम एक सलाहकार की नियुक्ति कर रहे हैं। ”
सड़कों ट्रकों शहर को मिल सकती है मुक्ति
चेयरमैन ने कहा कि यह परियोजना सफल होती है तो रोजाना 700-800 ट्रकों के शहर की सड़कों को संभावित रूप से मुक्त कर सकता है। गार्डनरीच सर्कुलर रोड, खिदिरपुर रोड, हेस्टिंग्स और विद्यासागर सेतु, जो कि दूसरे हुगली ब्रिज के रूप में भी जाने जाते हैं, ट्रैफिक जाम व प्रदूषण से प्रभावित रहते हैं। ऐसे में हावड़ा में विपरीत नदी से गंतव्य के लिए पानी के नीचे सुरंग के माध्यम से नदी पार की जा सकती है।
ट्रकों की आवाजाही के लिए रो-रो सेवा की भी ली जा सकती है मदद
कुमार ने कहा कि बंदरगाह के अधिकारी शहर के यातायात से बचने के लिए ट्रकों की आवाजाही को आसान बनाने के लिए रो-रो (रोल ऑन, रोल ऑफ) नौका सेवाओं की भी खोज कर रहे हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या मौजूदा कोरोना के प्रकोप ने बंदरगाह गतिविधियों को प्रभावित किया है।
अब तक 180 पोर्ट कर्मी हुए कोरोना पॉजिटिव
कुमार ने कहा कि, “पिछले सप्ताह एक दिन में आठ पायलटों की जांच की। उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। कुल मिलाकर पोर्ट कर्मचारियों और सहायक कर्मचारियों के बीच 180 मामलों का पता अब तक चला है। हमने एक दिन के लिए भी संचालन बंद नहीं किया है, क्योंकि इससे पोर्ट उपयोगकर्ताओं को असुविधा होती है।” इस बीच, सीआईआई द्वारा आयोजित एक सेमिनार में बोलते हुए, केंद्रीय जहाजरानी मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि केंद्र ने जलमार्ग शुल्क माफ कर दिया है। भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण (आईडब्ल्यूएआई) ने अंतर्देशीय मालवाहक जहाजों के लिए प्रति किलोमीटर पंजीकृत सकल टन भार (जीआरटी) पर 0.02 रुपये और राष्ट्रीय जलमार्ग पर क्रूज जहाजों के लिए 0.05 रुपये की दर से जलमार्ग उपयोग शुल्क लगाया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मौजूदा भारतीय हॉकी टीम में विश्वस्तरीय रक्षापंक्ति और ड्रैग फ्लिकर: रघुनाथ

बेंगलुरू : पूर्व हॉकी खिलाड़ी वीआर रघुनाथ का मानना है कि मौजूदा भारतीय टीम के पास विश्वस्तरीय रक्षापंक्ति और स्तरीय ड्रैग फ्लिकर हैं और टीम आगे पढ़ें »

आईसीसी बोर्ड की बैठक : बीसीसीआई, सीए में होगी टी20 विश्व कप बदलने पर चर्चा

नयी दिल्ली : भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) और क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) के प्रमुख अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की शुक्रवार को होने वाली बोर्ड बैठक के आगे पढ़ें »

ऊपर