शिलांग में राजीव कुमार से मैराथन पूछताछ, फिर तलब

सवालों से घेरने की कोशिश, कुणाल से अलग होगी पूछताछ
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता /​ शिलांग : शिलांग स्थित सीबीआई कार्यालय में सीबीआई की टीम ने कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से शनिवार को 7 घंटे से अधिक मैराथन पूछताछ की। सूत्र बताते हैं कि राजीव कुमार को सवालों से जबरदस्त घेरने की कोशिश की गयी। इस दौरान पुलिस कमिश्नर काफी शांत रहे तथा उन्होंने सवालों के जवाब दिये। उन्हें आज रविवार को फिर बुलाया गया है। इसके अलावा पूर्व सांसद कुणाल घोष से आज यानी रविवार को अलग से पूछताछ होगी। कयास यह भी लगाया जा रहा है कि दोनों को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जा सकती है।
पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार, उनके वकील विश्वजीत देब और वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी जावेद शमीम, मुरलीधर शर्मा तथा राजीव कुमार के भाई सुबह 10.45 बजे जांच एजेंसी के कार्यालय पुलिस की सुरक्षा में पहुंचे। कुमार के अलावा अन्य लोगों को बाहर ही रहने को कहा गया, जिसके बाद वे तीनों चले गये। अति सुरक्षा वाले सीबीआई कार्यालय में कुमार से कई जानकारियां निकलवाने की कोशिश में सीबीआई की टीम जुटी रही। उन्हें दोपहर में लंच ब्रेक दिया गया था। शाम लगभग साढ़े 7 बजे उन्हें आज फिर आने के पत्र के साथ ही छोड़ा गया। यहां सीबीआई के तीन वरिष्ठ अधिकारी दिल्ली से शुक्रवार को पहुंचे थे। वहीं कोलकाता से सारधा चिटफंड कांड की छानबीन करने वाले ऑफिसर इन चार्ज तथागत बर्धन व दिल्ली से कोलकाता पहुंचे अधिकारी फाइलों के साथ शिलांग गत शुक्रवार को ही पहुंचे थे। तथागत बर्धन वही अधिकारी हैं जो गत 3 फरवरी को कोलकाता में राजीव कुमार के आवास पर उनसे पूछताछ करने के लिये अपनी पूरी टीम के साथ गये थे लेकिन पुलिस ने उनकी कोशिश नाकाम कर दी।
वकील व सीबीआई अधिकारियों में हुई बहस
सूत्रों ने बताया कि कुमार के वकील और दो आईपीएस अधिकारियों को 30 मिनट के अंदर ही सीबीआई कार्यालय से बाहर जाने को कहा गया। इसे लेकर राजीव के साथ पहुंचे वकील व सीबीआई अधिकारियों में बहस हो गयी। सीबीआई की टीम का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश है कि उनका बयान रिकार्ड किया जाए। ऐसे में कोई अन्य व्यक्ति उनके साथ नहीं रह सकता।
सीबीआई के आरोप
सीबीआई ने शीर्ष न्यायालय में आरोप लगाया था कि सारधा चिटफंड घोटाले की जांच में एसआईटी का नेतृत्व करने वाले कुमार ने इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्यों से छेड़छाड़ की और सीबीआई को जो दस्तावेज सौंपे, उनमें से कुछ में बदलाव किए हुए थे। शीर्ष न्यायालय ने कुमार को एक ‘न्यूट्रल’ स्थान शिलांग में जांच एजेंसी के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया, ताकि सारे अनावश्यक विवादों से बचा जा सके।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

बैडमिंटन : मंत्रालय की गाइडलाइंस के बाद कोर्ट पर उतरे लक्ष्य

नयी दिल्‍ली : स्पोर्ट्स ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (साई) की गाइडलाइंस के बाद बेंगलुरु में पादुकोण-द्रविड़ सेंटर ऑफ एक्सीलेंस अकादमी में बैडमिंटन खिलाड़ियों ने प्रैक्टिस शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर