सीएए पर हिंसा करने वालों को ममता ने चेताया

mamata protest

कोलकाता : हिंसा के रास्ते कोई आंदोलन नहीं होता, न ही इसके जरिये मकसद में जीत मिलती है। गलत का विरोध करना है तो सही तरीके से आंदोलन करना जरूरी है। जैसा तृणमूल करती आयी है और आने वाले समय में भी करती रहेगी। मौजूदा समय में सीएए और एनआरसी के खिलाफ आंदोलनरत मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीएए पर हिंसा फैलाने वालों को चेताया भी तथा अपने छात्र नेताओं को गुरुमंत्र दिया। ममता ने कहा कि शांति से आंदोलन करना ही सही तरीका होता है। मौका था तृणमूल छात्र परिषद के धरने का जो पिछले 4 दिनों से रानी रासमणि में दिया जा रहा है। सोमवार को भी टीएमसीपी के सदस्य वहां नो सीएए नो एनआरसी का नारा लगा रहे थे जिनकी हौसला अफजायी के लिए खुद ममता बनर्जी वहां पहुंचीं। पहले तो उन्होंने छात्र नेताओं का भाषण सुना, बाद में वह खुद छात्रों को संबोधित करने लगीं। ममता ने कहा ​कि सीएए के खिलाफ सिर्फ जेएनयू के छात्र ही आंदोलन नहीं कर रहे हैं बल्कि देशभर के सभी छात्र इसके खिलाफ हैं। पूरे भारतवर्ष में करीब 1000 विश्वविद्यालय और कॉलेज हैं जहां छात्र अपने सामर्थ्य के अनुसार आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलन में किसी की जाति या धर्म नहीं देखा जाता। इसे सच्चे मन से किया जाता है। इन आंदोलनों में भी कुछ लोग हैं जो हिंसा कर रहे हैं। वह बसों में आग लगा रहे हैं, बमबाजी कर रहे हैं। इस तरह हिंसा करके वे लोग सिर्फ चिप पब्लिसिटी कर रहे हैं जो उन्हें कभी कामयाब नहीं होने देगा। ममता ने वाममोर्चा व कांग्रेस पर निशाना साधा तथा कहा कि उनकी भाजपा के साथ मिलीभगत है। भाजपा सांसद दिलीप घोष के बयान की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए ममता ने कहा कि बंगाल में किसी भी हाल में गोली नहीं चलेगी। बावजूद इसके अगर कोई घटना घटती है तो उसका पूरा दायित्व उन लोगों का होगा।
ममता ने छात्रों को एकजुट होकर अपना आंदोलन बढ़ाने का आह्वान किया तथा कहा कि यह आंदोलन जनस्वार्थ के लिए है, इसे इसी तरह लगातार जारी रखना होगा। ममता ने अपने सिंगुर आंदोलन का जिक्र कर छात्र नेताओं को प्रेरित भी किया। ममता ने कहा कि गंगा सागर मेले के कारण वह सड़क पर नहीं उतर रही है इसका मतलब यह कतई नहीं कि उनका आंदोलन थम गया है। उल्लेखनीय है कि शनिवार को भी ममता बनर्जी पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने के बाद धरना मंच पर पहुंची थीं। वहां वामपंथी छात्रों के साथ गड़बड़ी होने के बाद मुख्यमंत्री दोबारा धरना मंच पर आकर काफी देर तक स्थि​ति संभालने के लिए वहां बैठी रहीं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

माता पिता के साथ हुए नस्ली भेदभाव की बात करते रो पड़े होल्डिंग

साउथम्पटन : वेस्टइंडीज के अपने जमाने के दिग्गज गेंदबाज माइकल होल्डिंग नस्लवाद पर दमदार भाषण देने के एक दिन बाद सीधे प्रसारण के दौरान अपने आगे पढ़ें »

शाहरुख ने मुझे गंभीर जैसी आजादी नहीं दी : गांगुली

नयी दिल्‍ली : मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष और टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के को-ओनर शाहरुख खान को लेकर आगे पढ़ें »

ऊपर